सात राज्यों में माननीय के वेतन का इनकम टैक्स भी सरकारी खजाने से क्यों

Why Indian Politicians taking too much salary
Featured Video Play Icon

आजादी के बाद भारत की राजनीति गरीब और गरीबी के इर्द- गिर्द घूमती रही है। पार्टी चाहे कोई हो। पर, हमारे रहनुमा अक्सर अपने भाषणों में गरीब और मध्यम वर्ग के कल्याण का दावा करते नहीं थकते है। दूसरी ओर गौर करें तो सच्चाई चुभन पैदा करती है। गरीबों के नाम पर सत्ता की सीढ़ी चढ़ने वाले देश के अधिकांश सांसद और विधायक खुद के लिए दोनों हाथ से सुख- सुविधा बटोर रहे होते है। वेतन भत्ता और अन्य कई प्रकार की सुविधा लेने वाले हमारे रहनुमा कई राज्यों में अपनी आय का टैक्स भी सरकारी खजाने से भरते है। यानी उसी गरीब और मध्यम वर्ग के कमाई से जमा हुई टैक्स की राशि से सुख भोगते है। यह एक गंभीर विषय है और आज हम आपको इसकी सच्चाई समझना जरूरी है।

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Leave a Reply