मोहम्मद रफी के आखिरी अल्फाज…तो मै चलूँ

मोहम्मद रफी के आखिरी अल्फाज...तो मै चलूँ
Featured Video Play Icon

वह 31 जुलाई 1980 की शाम का वक्त था, फिजा में खामोशी थी, जैसे कोई नश्तर टूट के दिल में चूभ गया हो। इसी खामोशी में, इसी मायूसी से भरे सन्नाटे में ‘शहंशाह-ए-तरन्नुम’ को सुपुर्दे ख़ाक किया जा रहा था

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Leave a Reply