वामपंथ और दक्षिणपंथ के बीच कराहता राष्ट्रवाद

वामपंथ और दक्षिणपंथ के बीच कराहता राष्ट्रवाद
Featured Video Play Icon

भारत में राजनीति का इतिहास बहुत ही गहरा रहा है। बावजूद इसके एक गहरे साजिश के तहत हर दौर में हमारे हुक्मरानो ने हमारे अन्दर राष्ट्रवाद को पनपने ही नही दिया। कहतें है कि विचारधारा चाहें वामपंथ की हो दक्षिणपंथ की। दरअसल, इनका जन्म हिंदुस्तान में हुआ ही नहीं। यह दोनो विचारधारा यूरोपीय देशों की आतंरिक राजनीतिक संघर्षों की उपज है

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

हमारे एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। हमारे सभी खबरों का अपडेट अपने फ़ेसबुक फ़ीड पर पाने  के लिए आप हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक कर सकते हैं, आप हमे  ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी फॉलो कर सकते हैं। वीडियो का नोटिफिकेशन आपको तुरंत मिल जाए इसके लिये आप यहां क्लिक करके हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *