क्रिसमस देता है मोहब्बत का पैगाम

Why Christmas is Celebrated
Featured Video Play Icon

इसाई समुदाय के लिए क्रिसमस का बड़ा महत्व है। यह पर्व उनके आस्था से जुड़ा होता है। इस मौके पर दुनिया के गिरजाघरों में प्रभु यीशु की झांकियां प्रस्तुत की जाती हैं। गिरजाघरों में प्रार्थना का आयोजन होता है और इसाई धर्म को मानने वाले प्रभु यीशु का ध्यान करते हैं। इसाई सम्प्रदाय के मानने वाले प्रत्येक वर्ष 25 दिसम्बर को क्रिसमस मनाते है। इस मौके पर एक दुसरे को प्यार और भाइचारे का संदेश देते है। क्रिसमस का यह पर्व कमोवेश पूरी दुनिया में इसाई लोगो के द्वारा मनाई जाती है। हालांकि, अब दुसरे समुदाय के लोग भी क्रिसमस में हिस्सा लेने लगे है। कहतें है कि क्रिसमस की पूर्व संध्या यानि 24 दिसंबर से ही क्रिसमस से जुड़े कार्यक्रम की शुरूआत हो जाती हैं। क्रिसमस की पूर्व संध्या पर लोग प्रभु यीशु की प्रशंसा में कैरोल गाते हैं।

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

हमारे एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। हमारे सभी खबरों का अपडेट अपने फ़ेसबुक फ़ीड पर पाने  के लिए आप हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक कर सकते हैं, आप हमे  ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी फॉलो कर सकते हैं। वीडियो का नोटिफिकेशन आपको तुरंत मिल जाए इसके लिये आप यहां क्लिक करके हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *