चक्रवाती तूफान ‘मोरा’, बिहार और झारखंड में मचा सकता है तबाही

​पूर्वोतर भारत में मोरा ने दिया दस्तक

झारखंड-बिहार में अगले 2 से 3 दिन बारिश की संभावना

लोगो को घर से बाहर नही निकलने की दी गयी ताकिद

मछुआरो को समुंद्र में नही जाने की दी गयी चेतावनी

संतोष कुमार गुप्ता

चक्रवाती तुफान मोरा को लेकर बिहार और झारखंड मे अलर्ट जारी किया गया है। लोगो को बाहर निकलने के लिए भी सतर्क रहने को कहा गया है। बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवाती तूफान ‘मोरा’ 12 किलोमीटर की रफ्तार की तेज हवाओं के साथ सोमवार को उत्तर पूर्व की ओर बढ़ रहा है। इसी वजह से झारखंड, बिहार और ओडि़सा का तापमान चढने के बाद अचानक गिरा है और आंधी तूफान के साथ झारखंड-बिहार में बारिश भी हो रही है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार अभी दोनों राज्‍यों में दो से तीन दिनों तक ऐसी ही स्थिति रहेगी।

केरल में मानसून 1 जून को दस्‍तक देने वाला था। इस तूफान के कारण इसका समय घट गया है। अब मानसून 30 या 31 मई को ही केरल में दस्‍तक दे देगा। मौसम विभाग के अनुसार तूफान ‘मोरा’ उत्तर और उत्तर पूर्व की दिशा में आगे बढ़ते हुए मंगलवार दोपहर तक बांग्लादेश को पार कर जायेगा।  लेकिन यह बिहार और झारखंड में अपना असर छोड़ जायेगा।

बिहार के विभिन्न जिलों में रविवार और सोमवार को हुई बारिश के चलते वज्रपात और आंधी-तूफान की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या बढ़कर 29 के पार चली गयी है। आपदा प्रबंधन विभाग के अपर सचिव अनिरुद्ध कुमार ने आज बताया कि प्रदेश के 9 जिलों में कल हुए वज्रपात और आंधी-तूफान की चपेट में आने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 29 के पार हो गयी है। इसमें से पांच लोगों की मौत दीवार गिरने के कारण हुई जबकि बाकी की मौत वज्रपात के कारण हुई। मौसम विभाग की ओर से चेतावनी भी जारी की गयी है।

झारखंड में वज्रपात और आंधी-तूफान से कई लोगों की मौत
झारखंड के हजारीबाग में वज्रपात से तीन बच्चों की व बड़कागांव में एक महिला की मौत हो गयी। जबकि पिछले तीन चार दिनों से राज्‍य के कई जिलों में वज्रपात और आंधी-तूफान ने कई लोगों को घायल किया है। पहले भी कुछ लोगों की मौत हुई हैं। मौसम विभाग लगातार चेतावनी जारी कर लोगों को घर में रहने की सलाह दे रहा है।

तेज हवाओं और बारिश ने राज्‍य के मौसम को थोड़ा नरम तो किया है, लेकिन लोगों में आंधी-तूफान और वज्रपात को लेकर दहशत का माहौल व्‍याप्‍त है। झारखंड के मौसम विभाग ने राज्‍य के कई जिलों में अगले दो-तीन दिनों तक बारिश और तेज आंधी तूफान की चेतावनी जारी की है। चक्रवाती तूफान मोरा को इसका कारण बताया जा रहा है। वैज्ञानिकों की मानें तो इस तूफान का असर मानसून पर भी पड़ सकता है।

पूर्वोत्तर के कई राज्यों में भारी बारिश के आसार
मोरा के प्रभाव से ओडिशा, बंगाल, त्रिपुरा और मिजोरम में बारिश हो रही है, साथ ही आने वाने दो तीन दिनों तक रुक रुक बारिश होने की संभावना व्‍यक्‍त की गयी है। मंगलवार और बुधवार को असम, मेघालय, मणिपुर, नगालैंड और अरुणाचल प्रदेश में भारी बारिश का अनुमान है। अंडमान द्वीप समूह में 40 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने और समुद्र मे समुद्र में ऊंची लहरें उठने की आशंका जतायी गयी है और इसे देखते हुए अगले दो दिन तक मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गयी है।

दिल्ली में सर्द सुबह, मौसम हुआ सुहाना 
राष्ट्रीय राजधानी में आज सुबह हुई बारिश से मौसम सर्द हो गया, वहीं न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री कम 22.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि आज सुबह शहर में कुल 7.8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी। दिल्ली यातायात पुलिस के अनुसार बारिश के कारण शहर के कई हिस्सों में जाम लगा लेकिन कहीं भी भारी जाम नहीं था।

मौसम विज्ञान विभाग ने आज दिन में बादल छाये रहने और गरज के साथ छींटे पड़ने का अनुमान भी लगाया था। अधिकतम तापमान के 35 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना व्‍यक्‍त की गयी थी। अधिकारी ने बताया कि आज सुबह साढे आठ बजे आर्द्रता 93 प्रतिशत दर्ज की गयी। कल का न्यूनतम और अधिकतम तापमान क्रमश: 22.5 डिग्री सेल्सियस और 36.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।