ममता की जंग मे हार गया मां का आंचल

 कानूनी पेंच मे फंसा ग्रामीणो की दरियादिली/ पुल  के नीचे छटपटा रही लावारिश कन्या को मिला ममता का छांव ज्यादा देर तक टीक नही सका/ मीनापुर पुलिस ने किया चाइल्ड लाइन के हवाले/ 21 वर्षो से औलाद के लिए तरस रही सुनिता का पुरा नही हुआ अरमान

संतोष कुमार गुप्ता

मीनापुर। मां की ममता कितनी बेमिशाल होती है यह तुरकी गांव मे देखने को मिला। तुरकी पठान टोली पुल के नीचे झाड़ी मे शनिवार की शाम लावारिश हालत मे नवजात कन्या को फेंक दिया। समझा जाता है कि लड़की जनने के बाद किसी निष्ठुर मां ने मानवता को शर्मसार कर देने वाला यह कदम उठाया है।

समीप मे बकरी चरा रही नन्ही खातून की पुत्री सोनी कुमारी को बच्चे की रोने की आवाज सुनायी दी। वह वहां जाकर देखा तो कन्या लावारिश अवस्था मे चिल्ला रही थी.उसके शोर मचाने पर लोगो की भीड़ जुट गयी। वह उस बच्ची को सुरक्षित घर पर ले आयी। इसके बाद गांव के ही पूनम भगत की पत्नी सुनिता देवी को खुशी के ठीकाने ना रहा। वह दौड़ी दौड़ी वहां पहुंची और उस बच्चे को अपने गोद मे ले लिया। सुनिता देवी की शादी 1997 मे हुई.शादी के 21 साल बाद भी वह बेऔलाद है। वह डॉक्टर से लेकर ओझागुणी तक चक्कर लगाकर थक चुकी है। किंतु अब तक उसका गोद सुना है। पूर्व सरपंच नंदकिशोर चौधरी,मुखिया पति लालबाबू प्रसाद व नसीर खां की मौजूदगी मे उक्त बच्चे को सुनिता के हवाले कर उसकी सुनी गोद को आबाद कर दिया। उसने 21 सौ रूपया इनाम देकर बच्चे को अपने गोद मे ले लिया। उसके बाद से तो सुनैना का पौ बारह हो गया.उस बच्चे के लिए उसने दुधपिलाई से लेकर लालन पालन का सारा समान इकट्ठा कर लिया। नवजात बच्चे की लावारिश हालत मे मिलने की सुचना प्राप्त होते ही मीनापुर पुलिस शनिवार की रात तुरकी गांव पहुंची। वहां से बच्चे को लाकर मीनापुर पीएचसी मे स्वास्थ्य परीक्षण कराया। इसकी सुचना चाइल्ड लाइन को दी गयी। सुबह मे बच्चे को लेकर सुनिता को थाने पर बुलाया गया.चाइल्ड लाइन से दीपन कुमार पहुंच गये। पूर्व सरपंच नंदकिशोर चौधरी के साथ पहुंची सुनिता ने कहा कि वह औलाद के लिए तरस रही है। वह इस बच्चे का भरण भोषण करना चाहती है। किंतु चाइल्ड लाइन के अधिकारियो ने कहा कि उन्हे कानूनी बाध्यता है कि वह अभी बच्चा नही सौंप सकते। पुलिस इंस्पेक्टर सोना प्रसाद सिंह ने कागजी प्रक्रिया पुरा करने के बाद उस बच्चे को चाइल्ड लाइन के अधिकारियो के हवाले कर दिया। वावजूद वह महिला शहर के मझौलिया स्थित चाइल्ड लाइन कार्यालय पहुंच कर अधिकारियो से गुहार लगायी। किंतु उन्हे आंचल सूना कर के घर भेज दिया गया। जबकि उस महिला के गोद मे ही वह बच्ची चाइल्ड लाइन भेजी गयी। बच्चे को तत्काल केजरीवाल हॉस्पीटल मे भर्ती कराया गया है। इसके बाद उसे शिशु होम मे रखा गया है। सुनिता का गुलजार आंचल एक बार फिर से वीरान हो गया।

This post was published on अप्रैल 9, 2018 12:48

KKN लाइव WhatsApp पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
संतोष कुमार गुप्‍ता

Recent Posts

  • Videos

क्या तीसरी बार मोदी सरकार अपना कार्यकाल पूरा कर पाएगी? एनडीए की चुनौतियाँ और भविष्य…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए की तीसरी बार सरकार का गठन हो चुका… Read More

जून 19, 2024
  • Videos

घुटन से मुक्ति: सकारात्मक सोच की प्रवलता | KKN Live का नया सेगमेंट – अंजुमन

घुटन एक छोटा सा शब्द है, लेकिन आजकल हमारे जीवन में बहुत आम हो गया… Read More

जून 17, 2024
  • Videos

UP के Politics में जनादेश 2024 के बाद हो सकता है कई बड़े बदलाव, असर Bihar पर भी

यूपी में कौन जीता या कौन हारा... अब इसके कोई मायने नहीं है। पर, इसका… Read More

जून 12, 2024
  • Videos

विवेकानन्द रॉक मेमोरियल में 132 साल बाद फिर पहुंचें नरेन्द्र…

विवेकानन्द रॉक मेमोरियल... प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ध्यान साधना के बाद... अचानक सुर्खियों में है।… Read More

जून 5, 2024
  • Politics

एग्जिट पोल में एनडीए की बढ़त इंडिया ब्लॉक में मची खलबली

इंडिया ब्लॉक में एग्जिट पोल को लेकर असमंजस KKN न्यूज ब्यूरो। भारत में 18वें लोकसभा… Read More

जून 2, 2024
  • Videos

वैशाली समेत बिहार की सभी 40 सीटों का परिणाम चौकाने वाला | चुनावी विश्लेषण

बिहार की सभी 40 सीटों के परिणामों का विश्लेषण पत्रकारों ने किया है, जो काफी… Read More

जून 1, 2024