शीला के जान की दुश्मन बनी सांप, 19 वर्षो में 50 बार काटा

​मीनापुर के बहवल बाजार निवासी एक महिला के पीछे पड़ी सांप

संतोष कुमार गुप्ता

मीनापुर । मुजफ्फरपुर जिले के मीनापुर थाना क्षेत्र के बहवल बाजार गांव की कृष्णदेव प्रसाद की पत्नी शीला देवी मंगलवार को अपना जख्म दिखा रही थी। दुसरी ओर उसे डर भी सता रहा था कि कही फिर उसे सांप ना डंस ले। इसी बीच आंगन से बेटी दौड़ती आयी कि मम्मी सांप घूम रहा है। पति के जाने के बाद सांप भाग गया। शीला देवी को एक बार नही दो बार नही बल्कि सांप ने पचास बार डसा है। वह चालिस बार भगवानपुर के प्रभात तारा हॉस्पीटल मे इलाज करा चुकी है। बात 1998 की है.शीला की पुत्री रानी 22 दिन की हो गयी थी। शीला ने पुत्री को दूध पिलाकर जमीन पर सुला दिया। रात अंधेरा हो चुका था.जब वह घर से बाहर निकलने लगी तो पैर सांप के शरीर पर पड़ गया। सांप ने फुफकारते हुए पलट कर उसको काट लिया। लोगो ने उसको प्रभात तारा अस्पताल मे भर्ती कराया। बड़ी मुशकिल से उसे बचाया जा सका। सातंवा रोज सांप ने काट लिया। इसके बाद सांप डसते ही रहा.22 बार उस साल सांप ने डंसा। इसके बाद शीला ने ओझागुणी से लेकर कई जगहो पर पूजा पाठ कराया। इसके बाद सिलसिला थम गया। 14 फरवरी 2014 को पुत्री की शादी का मुर्हुत निकलते ही उसके घर मे परेशानी शुरू हो गयी। शीला के साथ साथ परिवार के अन्य लोगो को भी सांप ने डंसना शुरू कर दिया। पुत्री रानी को दो बार डंसा। पुत्र राजाबाबू को तीन बार सांप ने डंसा। राजाबाबू को प्रभात तारा अस्पताल मे भर्ती कराया गया। मां घर आकर बेटे के अस्पताल ले जाने के लिए खाना बनाने लगी। चावल चुगने के वक्त ही विषधर ने फुफकारते हुए मां को भी डंस लिया। खाना छोड़ कर मां को अस्पताल ले जाना पड़ा। इतना ही नही देखभाल के लिए शीला की बहन को भी नागराज ने अपना शिकार बनाया। तंत्र मंत्र व साधना कराने के बाद यह सिलसिला कुछ दिनो के लिए थम गया। किंतु छह मई से शीला के घर मे फिर से तुफान आ गया है। अब तो वह स्वपन व बिछावन पर भी कांप उठती है। शीला को सांप ने छह,सात,आठ,17,24,27 मई  को भी डसा। जून मे तो सिलसिला थम नही रहा है। घर के लोगो ने शीला को कुछ दिनो के लिए मायके बैरिया भेज दिया। किंतु वहां भी सांप ने डंस लिया। अब शीला जाये तो कहां जाये। घर मे भी अनेक लोगो की उपस्थिति मे भी उसे ही डसती है। शीला कहती है कि वह अब क्या करे,समझ मे नही आता। सांप ने कहां कहां जख्म नही दिया। चारो तरफ पत्थर लगाने का दाग है।वह जख्म दिखाते हुए रो पड़ती है। हालांकि विज्ञान के इस दौर मे शीला को शंका गांव के ही कुछ लोगो पर है। किंतु शिकायत कहां करे। कोई सबूत है नही। कानून इसको मानता नही है। लेकिन इस दैविय प्रकोप के लिए वह कहां कहां ओझाओ का दरवाजा नही खटखटाया। वह कहती है गर्दन व हाथ से जंतर खुद से गायब हो गया। आंचल से बंधा पांच लौंग भी खुद लुप्त हो गया। ओझागुणी बोलते है चवनिया पूजा कराने के लिए। जबकि इस पूजा पर लाखो खर्च आयेंगे। कहां से आयेगा इतना पैसा। गेरूआ व बतासा चढाने के बाद भी घर मे तबाही है। शीला के दामाद अजय भी दिल्ली से यहां आ गये है। उनका कहना है कि कुछ लोग दुश्मनी का खुन्नस निकाल रहे है। वह पहले भी बर्बाद करने की धमकी दे चुका है। गांव मे ऐसी घटना चर्चा का विषय है।

This post was published on जून 14, 2017 11:55

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
संतोष कुमार गुप्‍ता

Recent Posts

  • Videos

स्वामी विवेकानन्द का नाइन इलेवन से क्या है रिश्ता

ग्यारह सितम्बर... जिसको आधुनिक भाषा में  नाइन इलेवन कहा जाता है। इस शब्द को सुनते… Read More

जुलाई 3, 2022
  • Videos

एक योद्धा जो भारत के लिए लड़ा और भारत के खिलाफ भी

एक सिपाही, जो गुलाम भारत में अंग्रेजों के लिए लड़ा। आजाद भारत में भारत के… Read More

जून 19, 2022
  • Bihar

सेना के अग्निपथ योजना को लेकर क्यों मचा है बवाल

विरोध के लिए संपत्ति को जलाना उचित है KKN न्यूज ब्यूरो। भारत सरकार के अग्निपथ… Read More

जून 18, 2022
  • Videos

कुदरत की रोचक और हैरान करने वाली जानकारी

प्रकृति में इतनी रोमांचक और हैरान कर देने वाली चीजें मौजूद हैं कि उन्हें देख… Read More

जून 15, 2022
  • Society

भाषा की समृद्धि से होता है सभ्यता का निर्माण

भाषा...एक विज्ञान है। यह अत्यंत ही रोचक है। दुनिया में जितनी भी भाषाएं हैं। सभी… Read More

जून 7, 2022
  • Videos

सात राज्यों में माननीय के वेतन का इनकम टैक्स भी सरकारी खजाने से क्यों

आजादी के बाद भारत की राजनीति गरीब और गरीबी के इर्द- गिर्द घूमती रही है।… Read More

जून 5, 2022