Categories: Bihar Society

नही चलेगा बहाना, ताड़ के पेड़ पर चढ़ के होगा दिखाना

​-नीरा के लिए सरकार का नया पैंतरा

-ताड़ का पेड़ उगाने वाले जमींदारो को जोर का झटका

संतोष कुमार गुप्ता

पटना। अपने जमीन मे ताड़ व खजूर के सैकड़ो पेड़ उगाने वाले जमींदारो के लिए यह खबर जोर का झटका है।अगर वह सोंचते है की इस नाम पर उन्हे नीरा का लाइसेंस मिल जाये तो ये उनका भ्रम है। अब उन्हे ताड़ के पेड़ पर चढने का अभ्यास शुरू कर देना चाहिए।  नीरा निकालने का लाइसेंस देने के पहले ताड़ के पेड़ पर चढ़ने की परीक्षा ली जाएगी। लाइसेंस के लिए आवेदन में ताड़ पेड़ के किसान की सहमति भी दर्शाना होगा। लाइसेंस इस शर्त पर मिलेगी कि सूर्यास्त के बाद पेड़ पर लवनी या बर्तन लगा कर नीरा सूर्योदय के पहले निकाल लेगा। लाइसेंस लेने के बाद सरकार द्वारा अधिकृत एजेंसी को ही नीरा देना होगा। लाइसेंस लेने वाला व्यक्ति नीरा से गुड़ या अन्य खाद्य पदार्थ तैयार कर व्यवसाय कर सकता है। उद्योग विभाग के प्रधान सचिव डॉ. एस. सिद्धार्थ और मद्य निषेध व उत्पाद आयुक्त आदित्य कुमार दास ने गुरुवार को नीरा निकालने के लिए लाइसेंस की शर्तों की जानकारी दी।

 नि:शुल्क मिलेगा नीरा का लाइसेंस

नीरा प्रोजेक्ट पर कार्यशाला व प्रशिक्षण में यह भी बताया गया कि लाइसेंस नि:शुल्क मिलेगा। लाइसेंस के लिए आवेदन जिला उत्पाद अधीक्षक या सहायक उपायुक्त उत्पाद को दिया जा सकता है। नीरा निकालने का लाइसेंस लेकर ताड़ी या अन्य मादक पेय पदार्थ बेचने पर लाइसेंस रद्द होने के साथ ही बिहार मद्य निषेध एवं उत्पादन नीति 2016 के तहत सजा और अन्य कार्रवाई होगी।  लाइसेंस लेने वालों की मृत्यु के बाद उसके परिवार के सदस्य को लाइसेंस मिल सकता है, बशर्ते उसे भी ताड़ के पेड़ पर चढ़ना और नीरा उतारने की कला आनी चाहिए। ताड़ के पेड़ बहुल जिलों से कार्यशाला में लोगों को बुलाया गया था। डॉ. सिद्धार्थ ने कहा कि जीविका से सहयोग लेना है, लीजिए नहीं तो खुद नीरा या इससे संबंधित उत्पाद का  व्यवसाय कर सकते हैं। इसमें बंदिश नहीं है।

कारोबार के लिए एक करोड़ तक मिल सकता है लोन   

ताड़ी निकालने के कारोबार से जुड़े लोगों को नीरा का कारोबार या दूसरा व्यवसाय शुरू करने के लिए  एक लाख से एक करोड़ रुपए तक का लोन मिल सकता है।

क्या होता है नीरा यहां जानिये

नर-मादा पेड़ के फूलों का इसाव है। इसे फर्मेंटेशन के पहले संग्रहित किया जाता है। नीरा में खनिज लवण, कैल्शियम, फास्फोरस, लौह, विटामिन ए, बी एवं सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यह पाचन शक्ति व रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।

This post was published on अप्रैल 14, 2017 16:44

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
संतोष कुमार गुप्‍ता

Recent Posts

  • Bihar

नीतीश की भाजपा से दूरी कब और क्यों

KKN न्यूज ब्यूरो। बिहार की राजनीति में एक बड़ा बदलाव आ गया है। भाजपा और… Read More

अगस्त 9, 2022
  • KKN Special

इलाहाबाद क्यों गये थे चन्द्रशेखर आजाद

KKN न्यूज ब्यूरो। बात वर्ष 1920 की है। अंग्रेजो के खिलाफ सड़क पर खुलेआम प्रदर्शन… Read More

जुलाई 23, 2022
  • Videos

स्वामी विवेकानन्द का नाइन इलेवन से क्या है रिश्ता

ग्यारह सितम्बर... जिसको आधुनिक भाषा में  नाइन इलेवन कहा जाता है। इस शब्द को सुनते… Read More

जुलाई 3, 2022
  • Videos

एक योद्धा जो भारत के लिए लड़ा और भारत के खिलाफ भी

एक सिपाही, जो गुलाम भारत में अंग्रेजों के लिए लड़ा। आजाद भारत में भारत के… Read More

जून 19, 2022
  • Bihar

सेना के अग्निपथ योजना को लेकर क्यों मचा है बवाल

विरोध के लिए संपत्ति को जलाना उचित है KKN न्यूज ब्यूरो। भारत सरकार के अग्निपथ… Read More

जून 18, 2022
  • Videos

कुदरत की रोचक और हैरान करने वाली जानकारी

प्रकृति में इतनी रोमांचक और हैरान कर देने वाली चीजें मौजूद हैं कि उन्हें देख… Read More

जून 15, 2022