विशाखापट्टनम में गैस लीक, सड़को पर बदहवास होकर गिरे लोग

आठ की मौत, मृतको की संख्या बढ़ने का है अनुमान

KKN न्यूज ब्यूरो। आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में जहरीली गैस का रिसाव हो गया। इसकी चपेट में आने से 8 लोगों की मौत हो गई। जबकि, कई अन्य गंभीर बताये जा रहें है। मृतको की संख्या बढ़ भी सकती है। इलाके में हड़कंप मचा है। घटना गुरुवार सुबह 3 बजे की है। उस वक्त लोग अपने घरों में सो रहे थे। गैस रिसाव की वजह से सांस लेने में दिक्कत आने लगी और लोग भागने के दौरान इधर-उधर सड़को पर ही गिरने लगे। थोड़ी देर में ही करीब एक हजार से अधिक लोग इसकी चपेट में आ गये।

गैस की चपेट में

आरएस वेंकटपुरम गांव की है घटना

विशाखापट्टनम के आरएस वेंकटपुरम गांव में एलजी पॉलिमर इंडस्ट्री प्लांट में केमिकल गैस उस वक्त लीक हुई, जब लोग अपने घरों में सो रहे थे। इस भयंकर गैस रिसाव की वजह से एक हजार से अधिक लोग बीमार हो चुके हैं और करीब 200 लोगों को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। गैस के रिसाव की सूचना मिलते ही लोग जब मौके पर पहुंचे तो जहरीली गैस से उन्हें सांस लेने में दिक्कत हुई और आंखों की जलन समेत कई समस्याओं की वजह से वहीं बेहोश होकर गिरने लगे। बताया जा रहा है कि लोगों को कोरोना वायरस की दहशत का अंदेशा हुआ, जिसकी वजह से सभी वारदात स्थल की ओर दौड़ पड़े और फिर बेहोश होकर गिर गए। घटना की सूचना पाकर एंबुलेंस, फायर टेंडर की गाड़ियां और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। फिलहाल राहत बचाव का कार्य चल रहा है। आपदा प्रबंधन की टीम को भी लगा दिया गया है। यह संयंत्र गोपालपट्नम इलाके में स्थित है। इस इलाके के लोगों ने आंखों में जलन, सांस लेने में तकलीफ, जी मचलाना और शरीर पर लाल चकत्ते पड़ने की शिकायत की है। किंग जॉर्ज अस्पताल में लोगों को भर्ती कराया गया है। इनमें से कई की हालत नाजुक बताई जा रही है। टीवी चैनलों पर प्रसारित फुटेजो में लोग सड़कों पर बेहोश पड़े दिख रहे हैं। राहत की खबर ये है कि गैस रिसाव को काबू कर लिया गया है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने घटना के बारे में जानकारी ली है और जिला कलेक्टर को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है कि प्रभावित लोगों को उचित इलाज मिल सके।

तीन किलोमीटर में फैला गैस

केमिकल गैस का यह रिसाव करीब 3 किलोमीटर में फैल गया है। गैस रिसाव की घटना सुनकर कई लोग मौके पर पहुंचे। मगर आंखों में जलन और गैस की तीखी गंध को सहन करने में असमर्थ लोग सड़कों पर ही गिर गए। इस जहरीली गैस का असर इतना ज्यादा है कि बड़ी संख्या में लोग अपने घरों में ही बेहोश हो गए। इनमें ज्यादातर बच्चे और बूढ़े हैं। बताया जा रहा है कि गैस करीब 20 गावों तक फैल चुका है और लोगों को सांस लेने में दिक्कतें हो रही हैं। उस इलाके के कई गावों को खाली करा दिया गया है। कई लोग अपने घरों में कैद हैं। अधिकारियों ने लोगों को दोपहर तक गोपालपट्टनम की ओर न जाने की सलाह दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गैस रिसाव कांड पर अधिकारियों के साथ बैठक की है। उन्होंने ट्वीट किया मैं विशाखापत्तनम में सभी की सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रार्थना करता हूं। वहीं, अमित शाह ने कहा कि विशाखापत्तनम में गैस रिसाव की घटना परेशान करने वाली है। हम निरंतर स्थिति पर नजर बनाये हुएं हैं।

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

हमारे एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। हमारे सभी खबरों का अपडेट अपने फ़ेसबुक फ़ीड पर पाने  के लिए आप हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक कर सकते हैं, आप हमे  ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी फॉलो कर सकते हैं। वीडियो का नोटिफिकेशन आपको तुरंत मिल जाए इसके लिये आप यहां क्लिक करके हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *