Videos

मशीन से बनने वाली ऑक्सीजन पर निर्भरता क्यों…देखिए, पूरी रिपोर्ट

हममें से बहुत कम लोग है, जिनको मालुम होगा कि एक इंसान अपने जीवनकाल में करीब 60 करोड़ 48 लाख रुपये का ऑक्सीजन लेता है। यह ऑक्सीजन कुदरत से हमें मुफ्त में मिलता है। बावजूद इसके कुदरत के प्रति आभारी होने की जगह, हमने खुद ही कुदरत का दोहन किया। अंधाधुंध पेंड़ो की कटाई की। यानी खुद से अपने पैरो पर कुल्हाड़ी मारी। आज समझ में आया कि हमारे पूर्वज पेड़ों की पूजा क्यों करते थे? जिसे हम रुढ़ीवादी मानसिकता की संज्ञा देकर नकार रहें है। दरअसल, उसके पीछे छिपी पेड़ो की संरक्षणवादी व्यवस्था को हम समझ नहीं सके। नतीजा, हम सभी ने इसका दुष्परिणाम झेला है। समय आ गया है, जब पेड़ो की महत्ता को एक बार फिर से पुनर्स्थापित करना होगा।

 

This post was published on अगस्त 6, 2021 19:00

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
KKN न्‍यूज ब्यूरो

Recent Posts

  • Videos

स्वामी विवेकानन्द का नाइन इलेवन से क्या है रिश्ता

ग्यारह सितम्बर... जिसको आधुनिक भाषा में  नाइन इलेवन कहा जाता है। इस शब्द को सुनते… Read More

जुलाई 3, 2022
  • Videos

एक योद्धा जो भारत के लिए लड़ा और भारत के खिलाफ भी

एक सिपाही, जो गुलाम भारत में अंग्रेजों के लिए लड़ा। आजाद भारत में भारत के… Read More

जून 19, 2022
  • Bihar

सेना के अग्निपथ योजना को लेकर क्यों मचा है बवाल

विरोध के लिए संपत्ति को जलाना उचित है KKN न्यूज ब्यूरो। भारत सरकार के अग्निपथ… Read More

जून 18, 2022
  • Videos

कुदरत की रोचक और हैरान करने वाली जानकारी

प्रकृति में इतनी रोमांचक और हैरान कर देने वाली चीजें मौजूद हैं कि उन्हें देख… Read More

जून 15, 2022
  • Society

भाषा की समृद्धि से होता है सभ्यता का निर्माण

भाषा...एक विज्ञान है। यह अत्यंत ही रोचक है। दुनिया में जितनी भी भाषाएं हैं। सभी… Read More

जून 7, 2022
  • Videos

सात राज्यों में माननीय के वेतन का इनकम टैक्स भी सरकारी खजाने से क्यों

आजादी के बाद भारत की राजनीति गरीब और गरीबी के इर्द- गिर्द घूमती रही है।… Read More

जून 5, 2022