मुंबई इंडियंस के आगे ढेर हुए सनराइजर्स हैदराबाद के शेर

संतोष कुमार गुप्ता

​मुंबई:आइपीएल-10 मे सनराइजर्स हैदराबाद का जीत का हैट्रिक पुरा नही हो सका।मुम्बई इंडियंस ने डेविड वार्नर के सेना को बल्लेबाजी और गेंदबाजी मे मात देकर चारो खाने चित कर दिया।तेज गेंदबाजी मे भारतीय टीम की नयी खोज जसप्रीत बुमराह और हरभजन सिंह की उम्दा गेंदबाजी के बाद बल्लेबाजों के कमाल से मुंबई इंडियन्स ने इंडियन प्रीमियर लीग मैच में आज यहां सनराइजर्स हैदराबाद को चार विकेट से हराकर लगातार दूसरी जीत दर्ज की। हैदराबाद की तीन मैचों में यह पहली हार है। सनराइजर्स के 159 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए मुंबई ने नितीश राणा (36 गेंद में 45 रन), पार्थिव पटेल (24 गेंद में 39 रन) और कृणाल पंड्या (19 गेंद में 37 रन) की पारियों की बदौलत आठ गेंद शेष रहते छह विकेट पर 159 रन बनाकर जीत हासिल की।

भुवनेश्वर कुमार ने 21 रन देकर तीन विकेट चटकाए लेकिन सनराइजर्स को हार से नहीं बचा सके। इससे पहले बुमराह (24 रन पर तीन विकेट) और हरभजन (23 रन पर दो विकेट) की उम्दा गेंदबाजी के कारण डेविड वार्नर (49) और शिखर धवन (48) के बीच पहले विकेट की 81 रन की साझेदारी के बावजूद हैदराबाद की टीम आठ विकेट पर 158 रन ही बना सकी। इन दोनों के अलावा बेन कटिंग (20) ही दोहरे अंक में पहुंच पाए। बुमराह और हरभजन ने मध्य क्रम के बल्लेबाजों को टिककर नहीं खेलने दिया जबकि लसिथ मलिंगा, हार्दिक पंड्या और मिशेल मैकलेनाघन ने भी एक-एक विकेट चटकाया।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे मुंबई के लिए पार्थिव और जोस बटलर (14) की सलामी जोड़ी ने तेजी से रन जोड़े। बटलर ने भुवनेश्वर पर चौके से खाता खोलने के बाद आशीष नेहरा पर भी चौका मारा। पार्थिव ने भी नेहरा के ओवर के दो चौके जड़े। नेहरा ने हालांकि अगले ओवर में बटलर को बोल्ड कर दिया।

पार्थिव ने नेहरा के इस ओवर में भी दो चौके मारे। आईपीएल में पहली बार खेल रहे लेग स्पिनर राशिद खान ने एक बार फिर प्रभावी गेंदबाजी करते हुए मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा (04) को पगबाधा आउट करके टीम का स्कोर दो विकेट पर 41 रन किया। पिछले मैच में अर्धशतक जडऩे वाले राणा ने मुस्तफिजुर रहमान का स्वागत छक्के के साथ किया जबकि पार्थिव ने ओवर की अंतिम तीन गेंदों पर चौके मारे। इस ओवर में 19 रन बने जो आईपीएल में मुस्तफिजुर का सबसे खर्चीला ओवर है। मुंबई ने पावर प्ले में दो विकेट पर 61 रन बनाए।

पार्थिव इसके बाद दीपक हुड्डा की गेंद पर भुवनेश्वर को कैच दे बैठे। उन्होंने सात चौके मारे। राणा ने हुड्डा के इसी ओवर में छक्का जड़ा जबकि कीरोन पोलार्ड (11) ने मुस्तफिजुर पर छक्के के साथ 13वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया लेकिन भुवनेश्वर की गेंद पर धवन को कैच दे बैठे। कृणाल ने राशिद पर छक्के के साथ दबाव कुछ कम किया। उन्होंने नेहरा की लगातार गेंदों पर छक्के और चौके के साथ गेंद और रन के बीच के अंतर को कम किया। टीम को अंतिम चार ओवर में जीत के लिए 25 रन की दरकार थी। कृणाल ने बेन कटिंग के ओवर में एक छक्का और दो चौकों के साथ टीम को लक्ष्य के करीब पहुंचाया लेकिन अगले ओवर में भुवनेश्वर की गेंद पर पवेलियन लौट गए। उन्होंने अपनी पारी में तीन चौके और तीन छक्के मारे। इसी ओवर में राणा ने चौका जड़ा लेकिन अगली गेंद पर बोल्ड हो गए।

उन्होंने तीन चौके और दो छक्के जड़े। मुंबई को हालांकि अंतिम दो ओवर में जीत के लिए सिर्फ चार रन चाहिए थे और उसे हरभजन सिंह (नाबाद 03) और हार्दिक पंड्या (नाबाद 02) ने लक्ष्य तक पहुंचा दिया। मुंबई इंडियन्स के कप्तान रोहित शर्मा ने टास जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया जिसके बाद गेंदबाजों ने टीम को प्रभावी शुरुआत दिलाई। वार्नर और धवन की सलामी जोड़ी पावर प्ले में 34 रन ही बना सकी। वार्नर ने हरभजन और मलिंगा पर दो-दो चौके मारे लेकिन धवन को अपने पहले चौके के लिए मैकलेनाघन के सातवें ओवर का इंतजार करना पड़ा। धवन ने इसी ओवर में छक्का भी जड़ा।