सारागढ़ी को आज भी है इतिहास से इंसाफ की उम्मीद

सारागढ़ी को आज भी है इतिहास से इंसाफ की उम्मीद
Featured Video Play Icon

सारागढ़ी, भारतीय जांबाजों की बेमिशाल रणकौशल का प्रतीक। सारागढ़ी, हौसले की बेजोड़ मिशाल और सारागढ़ी, यानी तादाद पर भारी पड़ते इच्छाशक्ति की अद्भूत कारस्तानी। बावजूद इसके इस सारागढ़ी को इतिहास से इंसाफ क्यों नहीं मिला? हकीकत की बुनियाद पर आधारित यह कहानी है, 12 सितंबर 1897 की। यह दुनिया की सबसे खतरनाक युद्ध में आज भी शूमार है। ब्रिटेन में आज भी प्रत्येक वर्ष 12 सितंबर को सारागढ़ी दिवस के रुप में याद किया जाता है। किंतु, हम भारतीय, सारागढ़ी से अंजान है। दरअसल, क्या है सारागढ़ी की कहानी? देखिए, इस रिपोर्ट में…

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

हमारे एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। हमारे सभी खबरों का अपडेट अपने फ़ेसबुक फ़ीड पर पाने  के लिए आप हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक कर सकते हैं, आप हमे  ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी फॉलो कर सकते हैं। वीडियो का नोटिफिकेशन आपको तुरंत मिल जाए इसके लिये आप यहां क्लिक करके हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *