Categories: National Politics

क्या भारत को आजादी एक ही परिवार ने दिलवाई थी ?

राजकुमार सहनी
अक्सर कांग्रेस के नेताओं और उसके चाटुकार बुद्धिजीवी तत्वों को कहते देखा होगा की, नेहरू ने आज़ादी के लिए संघर्ष किया। गाँधी ने बिना लाठी चलाये ही भारत को आज़ादी दिला दी। वे लोग उस समय क्या कर रहे थे यह बात किसी से छिपी हुई नहीं है। जहाँ एक तरफ देश में आजादी के दीवानों को लगातार फाँसी हो रही थी। उस समय एक नेता अपना राजनितिक समीकरण साध रहा था तो एक देशभक्त एक धर्म विशेष के लोगों को फायदा पहुचां कर पता नहीं क्या साबित करने में मशगूल था। वही दूसरी तरफ मंगल पांडे फाँसी, तात्या टोपे फाँसी, रानी लक्ष्मीबाई अंग्रेज सेना ने घेर कर मारा, भगत सिंह फाँसी, सुखदेव फाँसी, राजगुरु फाँसी, चंद्रशेखर आजाद एनकाउंटर या आत्महत्या, अंग्रेज पुलिस द्वारा, भगवती चरण वोहरा बम विस्फोट में मृत्यु, रामप्रसाद बिस्मिल फाँसी, अशफाकउल्लाह खान फाँसी, रोशन सिंह फाँसी, लाला लाजपत राय लाठीचार्ज में मृत्यु, वीर सावरकर कालापानी की सजा, चाफेकर बंधू (3 भाई) फाँसी, मास्टर सूर्यसेन फाँसी के तख्ते पर झुल रहे थे।
ये तो कुछ ही नाम है। जिन्होंने स्वतन्त्रता संग्राम और इस देस की आजादी में अपना सर्वोच्च बलिदान दिया कई वीर ऐसे है है हम जिनका नाम तक नहीं जानते। इसमें कोई कांग्रेस का कोई नेता है या नहीं है?  क्योकि, कांग्रेस केवल सत्ता चाहती थी, तभी तो इन कांग्रेसी गद्दारों के समूह को इकट्ठा कर एक अंग्रेज जिसका नाम “ए ओ ह्यूम” था उसने कांग्रेस नाम की इस पार्टी की स्थापना 1885 में की थी। क्योकि, अंग्रेजो को इस देश में शासन करने के लिए इसी देश के उन लोगो की जरुरत थी, जो उनके कहे अनुसार चले और बदले में इन चाटुकारो को राजपाट की रोटी के टुकड़े फेंक दिए गये। नेहरू के रूप में इन्हें ऐसे लोग मिल भी गए। ये इस देश का दुर्भाग्य है की, ऐसे लोगो ने देश पर शासन किया। इस देश के टुकड़े किये, कश्मीर जैसा नासूर दिया, जातिवाद का जहर घोला, देश को घटिया सौगात देकर इस सामाजिक ढांचे को ध्वस्त किया, घोटाले कर देश को मुगलो ,अंग्रेजो के तरीके से ही लूटा। आज़ादी दिलाने के लिए संघर्ष किसी और ने किया और प्रधानमंत्री बन गया कोई और।

This post was published on अप्रैल 8, 2017 15:08

KKN लाइव WhatsApp पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
राज कुमार सहनी

Recent Posts

  • Videos

UP के Politics में जनादेश 2024 के बाद हो सकता है कई बड़े बदलाव, असर Bihar पर भी

यूपी में कौन जीता या कौन हारा... अब इसके कोई मायने नहीं है। पर, इसका… Read More

जून 12, 2024
  • Videos

विवेकानन्द रॉक मेमोरियल में 132 साल बाद फिर पहुंचें नरेन्द्र…

विवेकानन्द रॉक मेमोरियल... प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ध्यान साधना के बाद... अचानक सुर्खियों में है।… Read More

जून 5, 2024
  • Politics

एग्जिट पोल में एनडीए की बढ़त इंडिया ब्लॉक में मची खलबली

इंडिया ब्लॉक में एग्जिट पोल को लेकर असमंजस KKN न्यूज ब्यूरो। भारत में 18वें लोकसभा… Read More

जून 2, 2024
  • Videos

वैशाली समेत बिहार की सभी 40 सीटों का परिणाम चौकाने वाला | चुनावी विश्लेषण

बिहार की सभी 40 सीटों के परिणामों का विश्लेषण पत्रकारों ने किया है, जो काफी… Read More

जून 1, 2024
  • Videos

क्या सच में बदल जायेगा संविधान या पहले ही बदल चुका है संविधान

बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर ने कहा था कि संविधान चाहे जितना अच्छा हो... वह… Read More

मई 29, 2024
  • Videos

जितने के बाद उम्मीदवार 2019 से एक बार भी नहीं दिखे

क्या आपने देखा है कि आपके क्षेत्र के उम्मीदवार जीतने के बाद 2019 से एक… Read More

मई 23, 2024