KKN Special

कश्मीर समस्या का अनकही सच

कौशलेन्द्र झा

यह एक दिलचस्प बात है कि जम्मू-कश्मीर विधानसभा में कुल 111 सीटें हैं लेकिन चुनाव यहां सिर्फ 87 सीटों पर ही होता है। क्या आप जानतें हैं कि 24 सीटें खाली क्यों रहती हैं? दरअसल, ये 24 सीटें वे हैं, जो भारत सरकार ने कश्मीर के उस एक तिहाई हिस्से के लिए आरक्षित रखी हैं, जो आज पाकिस्तान के कब्जे में है।

पाक के इस हिस्से के विस्थापितों ने सरकार से कई बार कहा कि जिन 24 सीटों को आपने पीओके के लोगों के लिए आरक्षित रखा है उनमें से एक तिहाई तो यहीं जम्मू में बतौर शरणार्थी रह रहे हैं। इसलिए क्यों न इन सीटों में से आठ सीटें इन लोगों के लिए आरक्षित कर दी जाएं? जानकार मानते हैं कि अगर सरकार इन 24 सीटों में से एक तिहाई सीट इन पीओके रिफ्यूजिओं को दे देती है तो इससे भारत सरकार का दावा पीओके पर और मजबूत होगा और इससे पूरे विश्व के सामने एक संदेश भी जाएगा।

इसके अलावा पीओके के विस्थापितों की मांग है कि उनका पुनर्वास भी उसी केंद्रीय विस्थापित व्यक्ति मुआवजा और पुनर्वास अधिनियम 1954 के आधार पर किया जाना चाहिए जिसके आधार पर सरकार ने पश्चिमी पंजाब और पूर्वी बंगाल से आए लोगों को स्थायी तौर पर पुनर्वासित किया था। कहतें है कि इन लोगों के घरवाले 1947 के कत्लेआम में जम्मू आ गए। 12 लाख के करीब इन पीओके शरणार्थियों को आज तक उनके उन घरों, जमीन और जायदाद का कोई मुआवजा नहीं मिला जो पाकिस्तान के कब्जे में चले गये हैं।

इन शरणार्थियों में नाराजगी इस बात को लेकर भी है कि एक तरफ सरकार ने पाकिस्तान के कब्जे में चली गई इनकी संपत्ति का कोई मुआवजा इन्हें नहीं दिया दूसरी तरफ यहां से जो लोग पाकिस्तान चले गए, उनकी संपत्तियों पर कस्टोडियन बिठा दिया जो उनके घरों और संपत्तियों की देख-रेख करता है। एक और परेशानी काबिलेगौर है। 1947 में पलायन करने वाले लोगों में से बड़ी संख्या में ऐसे लोग थे जिनका जम्मू-कश्मीर बैंक की मीरपुर शाखा में पैसा जमा था। पलायन के बाद जब ये लोग यहां आए और बैंक से अपना पैसा मांगा तो बैंक ने उनके दावे खारिज कर दिए। बैंक का कहना था कि उसकी मीरपुर शाखा पाकिस्तान के कब्जे में चली गई है और उसका रिकॉर्ड भी पाकिस्तान के कब्जे में है इसलिए वह कुछ नहीं कर सकते। यह एक तरह का फ्रॉड नही तो और क्या है? इन 17 लाख विस्थापितों के आंकड़ों के सामने आबादी की जमीनी हकीकत देखी जाय तो जम्मू कश्मीर में लगभग 25 फीसदी कश्मीरियों ने पूरी सत्ता पर कब्जा कर रखा है और वे इसमें राज्य के अन्य लोगों को साझेदार बनाने को तैयार भी नहीं हैं।

This post was published on अप्रैल 2, 2017 08:19

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
KKN न्‍यूज ब्यूरो

Recent Posts

  • Videos

राजनीतिक सौदेबाज़ी: भारत और वैश्विक राजनीति पर इसका प्रभाव

इस वीडियो में, हम राजनीतिक सौदेबाज़ी के इतिहास और भारत की आज़ादी के बाद से… Read More

फ़रवरी 28, 2024
  • Videos

ओपन बुक परीक्षा : सीबीएसई का नया प्रयोग or शिक्षा व्यवस्था में बदलाव?

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 9वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों के लिए… Read More

फ़रवरी 27, 2024
  • Videos

तेजस्वी यादव vs नीतीश कुमार : बिहार की राजनीति

वह 12 फरबरी 2024 का दिन था । बिहार विधानसभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के… Read More

फ़रवरी 25, 2024
  • Videos

अनुच्छेद 370 हटाने के 4 साल बाद भी बहस जारी, समझे अनुच्छेद 370 को

5 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के कुछ उपबंधों और 35(A) को हटाए… Read More

फ़रवरी 23, 2024
  • Videos

छोटी बबिता फोगाट नहीं रहीं! सुहानी भटनागर का 19 साल की उम्र में निधन

"दंगल" फिल्म में छोटी बबिता फोगाट का किरदार निभाने वाली प्रतिभाशाली अभिनेत्री सुहानी भटनागर का… Read More

फ़रवरी 22, 2024
  • Videos

छत्रपति शिवाजी महाराज: वीर योद्धा, कुशल राजा, और भारत का गौरव

छत्रपति शिवाजी महाराज, भारत के महान योद्धा और मराठा साम्राज्य के संस्थापक, जिनकी वीरता की… Read More

फ़रवरी 21, 2024