Agriculture

लीची से लदे हैं पेंड़ पर आमदनी की उम्मीद नहीं, चिंता में बीमार पड़ने लगे किसान

लॉकडाउन की वजह से खरीददार नदारत

KKN न्यूज ब्यूरो। बिहार के मुजफ्फरपुर में लीची के बगानो में सन्नाटा है। हरा-भरा पेंड, दाना से लदा होने के बाद भी किसान निराश है। लॉकडाउन की वजह से खरीददार नहीं है। जो, बगान पहले बिक चुका था, उसमें दवा की छिरकाव करने वाला नहीं है। पटवन करने वाला कोई नहीं है। जाहिर है आने वाले दिनो में रखबार मिल जाये, तो गनीमत। यानी, लीची उत्पादक किसानो को इस वर्ष जबरदस्त नुकसान की चिंता अभी से सताने लगी है। स्मरण रहें कि यह वहीं मुजफ्फरपुर है, जो देश-दुनिया में लीची जोन के रूप में जानी जाती है।

चिंता में बीमार होने लगे किसान

जिले के मीनापुर में लीची से लदे पेड़ों को देखकर किसानों को इस वर्ष अच्छी पैदावार और बेहतर आमदनी की उम्मीद था। पर, लॉकडाउन की वजह से उनके अरमानो पर पानी फिरता हुआ दिखने लगा है। क्योंकि, लॉकडाउन की वजह से व्यापारी नहीं आ रहे हैं। इससे हताश किसान अब बीमारी के शिकार होने लगे हैं। आलम ये है कि पहले से बिका हुआ बगान देखने वाला भी कोई नहीं है। किसानों के मन में सवाल उठने लगा है कि 17 मई के बाद भी लॉकडाउन जारी रहा और ट्रेन नहीं चली तो लीची बिहार से बाहर कैसे जायेगी और यदि लीची बाहर नहीं गई तो क्या होगा? यह सोच कर कई किसान बीमार पड़ चुके हैं। सहजपुर के लीची उत्पादक किसान भोला प्रसाद सिंह बताते हैं कि नुकसान की आशंका से कई रात नींद नहीं आई। नजीता, ब्लड प्रेसर की चपेट में आकर बीमार हो गए। चार रोज पहले डॉक्टर ने फेसियल डिसऑडर की पुष्टि कर दी और अब वे विस्तर पर हैं।

 

लाखो में हो सकता है नुकसान

भोला सिंह के पुत्र नीरज कुमार बताते हैं कि तीन एकड़ में लीची का बगान है। व्यापारी तीन लाख रुपये में पहले ही खरीद चुका है। इस वर्ष के जनवरी में 25 हजार रुपये एडवांस भी कर गया है। किंतु, पिछले डेढ़ महीने से बगान को देखने नहीं आया। भोला सिंह के चिंता की असली वजह यहीं है। लॉकडाउन जारी रहा तो बिहार से बाहर लीची ले जाना मुश्किल होगा। ऐसे में व्यापारी को सिर्फ 25 हजार का नुकसान होगा। जबकि, किसान को 2.75 लाख रुपये का नुकसान हो जायेगा। दरअसल, 15 मई के बाद लीची पकने लगता है और लॉकडाउन 17 मई के बाद भी बढ़ा तो लीची पेड़ पर ही रह जाएगा। यहीं सोच कर किसान चिंता में पड़ गए हैं।

तबाही की कगार पर है ग्रामीण अर्थव्यवस्था

यहां भोला सिंह अकेला नहीं हैं गांव के लीची उत्पादक किसान उमाशंकर सिंह, अरुण कुमार, प्रदीप सिंह समेत कई अन्य किसानों ने बताया कि इस वर्ष लीची की अच्छी पैदावार होने के बाद भी किसानों की आमदनी लॉकडाउन की भेंट चढ़ने की आशंका से किसान चिंतित है। यदि सरकार ने इसके लिए कोई विकल्प की तलाश नहीं किया तो किसान बर्बाद हो जाएंगे। लीची उत्पादक किसानो की यह समस्या कमोवेश पूरे जिले की है। इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था चरमरा जाने का खतरा मंडराने लगा है। यानी जिस लीची के बगान से किसानों को अच्छी आमदनी की उम्मीद थी, अब वहीं बगान देख कर किसान बीमार पड़ रहें हैं।

This post was published on मई 4, 2020 11:47

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
कौशलेन्‍द्र झा

Recent Posts

  • Videos

जानिए अनुच्छेद 371 और इसके प्रावधान क्या है

भारत सरकार ने अनुच्छेद 370 को भले खत्म कर दिया। पर, अभी भी कई राज्यों… Read More

मई 15, 2022
  • KKN Special

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि भारत को अंग्रेजो का गुलाम होना पड़ा

इन दिनो भारत में आजादी का अमृत महोत्सव चल रहा है। यह बात हम सभी… Read More

मई 11, 2022
  • Videos

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि हम अंग्रेजो के गुलाम होते चले गए

हम सभी भारतवंशी अपने आजादी का अमृत महोत्सव मना रहें है। यह बात हम सभी… Read More

मई 8, 2022
  • KKN Special

फेक न्यूज की पहचान का आसान तरिका

सूचनाएं भ्रामक हो तो गुमराह होना लाजमी हो जाता है। सोशल मीडिया के इस जमाने… Read More

मई 5, 2022
  • Videos

फेक न्यूज के पहचान का आसान तरिका

सूचनाएं भ्रामक हो तो गुमराह होना लाजमी हो जाता है। सोशल मीडिया के इस जमाने… Read More

मई 1, 2022
  • Muzaffarpur

इन कारणो से है मुजफ्फरपुर के लीची की विशिष्ट पहचान

अपनी खास सांस्कृतिक विरासत के लिए दुनिया में विशिष्ट पहचान रखने वाले भारत की अधिकांश… Read More

अप्रैल 29, 2022