फिर चली बात, बात फूलो की..वसंत पर विशेष

फिर चली बात, बात फूलो की..वसंत पर विशेष
Featured Video Play Icon

बसंत के आने का मतलब है बहार का आना। परिंदों की चहचहाहट का बढ़ जाना और पेड़ों की डलियों पर नई पत्तियां या कोमल कोपलें आना… ऐसा खुबशुरत नजारा चहुओर आपको देखने को मिल जाता है। कायनात में तरह-तरह के फूल खिल उठते हैं और दुनिया रंग-बिरंगी दिखने लगती है। क़ुदरत मानो अंगड़ाई लेती है, सर्दियों का आलस पीछे छुट जाता है। ज़िंदगी को नई रफ़्तार मिलती है। कलियां खिल उठती हैं और फूल महकने लगते हैं

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Leave a Reply