भारतरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद की अनकही कहानी

Dr Rajendra Prasad Biography
Featured Video Play Icon

26 जनवरी 1950 को स्वतंत्र भारत ने अपना संविधान अंगीकार किया था और इसी के साथ भारत एक गणतांत्रिक राष्ट्र बन गया था। ठीक उसी रोज देश ने अपना पहला राष्ट्रपति घोषित किया। वह कोई और नहीं। बल्कि, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ही थे। वह चम्पारण आंदोलन का दौर था। गांधीजी की पहचान चंपारण के भितिहरबा से निकल कर देश और दुनिया में धमक दिखाने लगी थी। उन्हीं दिनो राजेन्द्र प्रसाद अपनी कुशल प्रबंधन की वजह से गांधीजी के करीब आ रहे थे। आगे चल कर उन्होंने संविधान बनाई और भारत के पहले राष्ट्रपति होने का गौरव भी उन्हीं को मिला। यह सभी कुछ हुआ कैसे? देखिए… इस कहानी में

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

हमारे एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। हमारे सभी खबरों का अपडेट अपने फ़ेसबुक फ़ीड पर पाने  के लिए आप हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक कर सकते हैं, आप हमे  ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी फॉलो कर सकते हैं। वीडियो का नोटिफिकेशन आपको तुरंत मिल जाए इसके लिये आप यहां क्लिक करके हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *