मॉनसून पर निर्भर सिंचाई, कृषि विकास दर हेतु छलाबा नही तो और क्या है

मॉनसून पर निर्भर सिंचाई, कृषि विकास दर हेतु छलाबा नही तो और क्या है
Featured Video Play Icon

आइये, समझने की कोशिश करतें हैं कि मानसून का हमारे कृषि से क्या संबंध है? यहां बताना जरुरी है कि हमारे बिहार में कृषि योग्य कुल भूमि 43.86 लाख हेक्टेयर है। इसमें 33.51 लाख हेक्टेयर विभिन्न साधनों द्वारा सिंचित है और बाकी की जमीन पर बेहतर पैदावर के लिए किसान वर्षा पर निर्भर रहतें है। आपको बतातें चलें कि राज्य का कुल क्षेत्रफल 94 हजार 163 वर्ग किलोमीटर में फैला है। जिसमें 92 हजार 257.51 वर्ग किलोमीटर ग्रामीण क्षेत्र कहलाता है। बिहार में सिंचाई का मुख्य साधन कुआँ, नलकूप तथा तालाब हैं

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Leave a Reply