Society

बेटी ने दी पिता को मुखाग्नि, रो पड़े लोग

​मीनापुर प्रखण्ड के चकइमाद गांव की घटना

बेटी ने निभाया बेटे का फर्ज

कुदाल लेकर पहुच गई श्मसान, पिता के  शव को दिया  कंधा

संतोष कुमार गुप्ता

मीनापुर। मुजफ्फरपुर जिले के मीनापुर प्रखंड अंतर्गत चकईमाद गांव मे बुधवार को मार्मिक दृश्य देखकर हर किसी के आंख से आंसू बह रहे थे। हर बेटी की इच्छा रहती है की जब उसका डोली उठे तो भाई और बाप सामने हो। वह लिपट लिपट कर रो सके। रक्षाबंधन मे भाई को राखी बांध सकू। भैयादूज मे बजरी खिला सकूं।  किंतु यहां विधाता ने क्या कर दिया। नसीब मे भाई भी नही दिया। पिता का साया समय से पहले छिन लिया। इस से बड़ा मर्मस्पर्शी दृश्य क्या हो सकता है कि जब मां के सामने बेटा की अर्थी सजे। किंतु यहां जमाने से चले आ रहे पुराने संकिर्ण रूढीवादी विचार को तोड़ कर पुरूष की जगह बेटी ने पिता के चिता को मुखाग्नि दी। चकईमाद गांव के शिवजी राम(45 वर्ष) लम्बे समय से बीमार चल रहे थे। वह बुधवार की सुबह चल बसे। हालांकि उनकी मां मुस्मात मछिया देवी अब भी स्वस्थ्य है। शिवजी राम को कोई पुत्र नही है।पुत्र के लिए शिवजी ने कहां कहां नही मत्था टेका। उसको दो पुत्री है। मरने के बाद लोग पुराने विचारधारा को लाने लगे। किंतु उनकी बड़ी बेटी इंटर प्रथम वर्ष की छात्रा पिंकी कुमारी टस से मस नही हुई.उसने कहा कि मेरे पिता ने मुझे पुत्र की तरह पाला है। पुत्र की तरह पढाया है। दुलार प्यार मे कोई कमी नही की। इतना प्यार तो पुत्र को नसीब नही होता है। इसलिए मुखाग्नि के अधिकार को कोई उससे छिन नही सकता। हम भी बेटा है बेटी नही।पिंकी ने कुदाल थाम कर पिता के लिए शायरा बनाया। पिता के अर्थी को कंधा देकर श्मसान तक ले गयी। उसके बाद हिंदू रिति रिवाज से चिता को मुखाग्नि दी। वह कह रही थी उसे इस बात का गम है कि पिता का साया उसके सिर से उठ गया। उसके पिता अब दुनिया मे नही रहे इसकी कसक पुरी जिंदगी रहेगी। किंतु इस बात की खुशी ही नही गर्व भी है कि उसने अपने पिता के चिता को मुखाग्नि दी। समाज के रूढीवादी परम्परा को तोड़ा। ऐसा सौभाग्य को कोई कोई बेटी को मिलता है। दूसरी बेटी रिंकी कुमारी के आंखो से आंसू बह रहे थे। मौके पर पंसस विनोद प्रसाद,एचएम शंकर राम,संकुल समन्वयक विनोद कुमार,श्यामबाबू कुमार व मुन्ना कुमार आदि ने शवयात्रा मे उपस्थित होकर ढाढस बंधाया।

This post was published on जून 8, 2017 11:34

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
संतोष कुमार गुप्‍ता

Recent Posts

  • Videos

क्या है प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट- 1991

प्लेसेज ऑफ वर्शिप ऐक्ट इन दिनो काफी चर्चा में है। आख़िर यह कानून है क्या?… Read More

मई 22, 2022
  • Videos

जानिए अनुच्छेद 371 और इसके प्रावधान क्या है

भारत सरकार ने अनुच्छेद 370 को भले खत्म कर दिया। पर, अभी भी कई राज्यों… Read More

मई 15, 2022
  • KKN Special

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि भारत को अंग्रेजो का गुलाम होना पड़ा

इन दिनो भारत में आजादी का अमृत महोत्सव चल रहा है। यह बात हम सभी… Read More

मई 11, 2022
  • Videos

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि हम अंग्रेजो के गुलाम होते चले गए

हम सभी भारतवंशी अपने आजादी का अमृत महोत्सव मना रहें है। यह बात हम सभी… Read More

मई 8, 2022
  • KKN Special

फेक न्यूज की पहचान का आसान तरिका

सूचनाएं भ्रामक हो तो गुमराह होना लाजमी हो जाता है। सोशल मीडिया के इस जमाने… Read More

मई 5, 2022
  • Videos

फेक न्यूज के पहचान का आसान तरिका

सूचनाएं भ्रामक हो तो गुमराह होना लाजमी हो जाता है। सोशल मीडिया के इस जमाने… Read More

मई 1, 2022