Bihar

फिर चंपारण में दूसरी सत्याग्रह तो नही

बड़ा सवाल: किसानो की हालात में कितना सुधार हुआ?

राजकिशोर प्रसाद
आज चंपारण सहित पूरा बिहार गांधीजी के चंपारण सत्याग्रह की सौ वीं वर्षगांठ मनाते इठला रही है। सरकार इसके लिये कोई कसर छोड़ना नही चाहती। गुरु पर्व से एक कदम आगे जाना चाहती है। आखिर चाहेगी क्यों नही? गांधीजी ने चंपारण आकर निलहो से रैयतों को नील की जबरन खेती से जो निजात दिलाई। हम आजाद हुये। स्वत्रंत्रता मिली। अंग्रेज चले गये। हम खेती करने को स्वत्रंत्र हुये। हमारी मर्जी जो चाहे अपनी माटी में जो उगाये।
देश की आजादी के बाद चंपारण में कई चीनी मिले लगी। किसानो को  गन्ने की खेती हेतु प्रोत्साहित किया जाने लगा। लोग व्यवसायिक खेती देख जोरो पर गन्ना की खेती शुरू की। किन्तु, बदलते समय के साथ सब कुछ विपरीत होता गया। अधिकांश मिले बन्द हो गई।  किसान मायूस हो गए। फिर भी कुछ किसान गन्ने की खेती नही छोड़ी। सरकार की ढुलमुल निति से गन्ने की बाक़ी रूपये 15 साल बाद भी कई किसानो को नही मिले। ये विवश किसान भी सरकार के सामने अपनी समस्याओं की खातिर सत्याग्रह ठान ली।
जहाँ सौ साल पूर्व गांधीजी के पाँव चंपारण की धरती पर किसानो की सही हक के लिये पड़ी थी। आज वही गांधी के चंपारण में वहाँ के दो लाल स्तय की आग्रह करते हुये आत्महत्या का प्रयास किया। शायद आज अगर गान्धीजी जिन्दा  होते तो यह जुरूर सोचने को विवश होते की जिस किसान के लिये सत्याग्रह की वह आज भी पूरा नही हुआ। राजकुमार शुक्ला ने चंपारण के किसानो के हितार्थ गांधीजी को चंपारण लाये। किन्तु आज सौ साल बाद भी किसानो की समस्याये कम नही हुई। आज किसान विवश हो आत्महत्या पर उतारू है।
सरकार करोड़ो रूपये शदाब्दी वर्ष पर खर्च कर रही है। किन्तु किसानो की समस्याओ की ओर ध्यान नही है। अगर समय रहते चंपारण के इन किसानो की सुध ली गई होती तो चंपारण शदाब्दी वर्ष की  सारार्थक्ता पूरी होती। काश आज भी कोई गांधीजी होते जो इन  विवश किसानो के खातिर सत्याग्रह करते। सिर्फ अनुदान मुआवजा और आर्थिक सहायता से कुछ नही होगा। जब तक किसानो के लिये ठोस निति नही बनेगी, सही उपादान, समुचित सिचाई, निरतर सस्ती बिजली, सही खाद बीज, उचित मण्डी, उचित मूल्य, यातायात भण्डारण, सरकार की संरक्षण और ठोस कानून, तब तक किसानो की समस्याओ का सही हल नही होगा। और न गांधीजी के चंपारण सत्यग्रह की सार्थकता सिद्ध् होगी। आज जरूरत है किसानो को सुदृढ़ करने की। चूँकि, किसान देश के विकास की रीढ़ है। इन्हें सुदृढ़ किये बिना सब बेकार है। अगर समय रहते किसानो की नही सुनी गई तो, न जाने कितने किसान इसी तरह सत्याग्रह करने को विवश होते रहेंगे।

This post was published on अप्रैल 10, 2017 21:19

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
राज कि‍शाेर प्रसाद

Recent Posts

  • KKN Special

इलाहाबाद क्यों गये थे चन्द्रशेखर आजाद

KKN न्यूज ब्यूरो। बात वर्ष 1920 की है। अंग्रेजो के खिलाफ सड़क पर खुलेआम प्रदर्शन… Read More

जुलाई 23, 2022
  • Videos

स्वामी विवेकानन्द का नाइन इलेवन से क्या है रिश्ता

ग्यारह सितम्बर... जिसको आधुनिक भाषा में  नाइन इलेवन कहा जाता है। इस शब्द को सुनते… Read More

जुलाई 3, 2022
  • Videos

एक योद्धा जो भारत के लिए लड़ा और भारत के खिलाफ भी

एक सिपाही, जो गुलाम भारत में अंग्रेजों के लिए लड़ा। आजाद भारत में भारत के… Read More

जून 19, 2022
  • Bihar

सेना के अग्निपथ योजना को लेकर क्यों मचा है बवाल

विरोध के लिए संपत्ति को जलाना उचित है KKN न्यूज ब्यूरो। भारत सरकार के अग्निपथ… Read More

जून 18, 2022
  • Videos

कुदरत की रोचक और हैरान करने वाली जानकारी

प्रकृति में इतनी रोमांचक और हैरान कर देने वाली चीजें मौजूद हैं कि उन्हें देख… Read More

जून 15, 2022
  • Society

भाषा की समृद्धि से होता है सभ्यता का निर्माण

भाषा...एक विज्ञान है। यह अत्यंत ही रोचक है। दुनिया में जितनी भी भाषाएं हैं। सभी… Read More

जून 7, 2022