प्लासी से शुरू हुए दासता के मौजू को समझने की जरुरत है

Plasi Battle Analysis
Featured Video Play Icon

वह 1757 का साल था। बंगाल के  मुर्शिदाबाद जिला मुख्यालय से करीब 22 मील दूर गंगा नदी के किनारे प्लासी के मैदान में युद्ध के बादल मंडराने लगा था। एक ओर थीं ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना और दूसरी ओर थीं, बंगाल के नवाब सिराज़ुद्दौला की सेना। 23 जून की सुबह कंपनी कमांडर रॉबर्ट क्लाइव ने फायर का आदेश दे दिया। इसी के साथ घनघोर युद्ध शुरू हो गया। इतिहास में इसको प्लासी के युद्ध के नाम से जाना जाता है। भारत में अंग्रजो के द्वारा प्रत्यक्ष रूप से लड़ा जाने वाला यह पहला युद्ध था। यही से शुरू होता है भारत के दासता की कहानी। प्लासी की कहानी आज भी मौजू है। कैसे? देखिए इस रिपोर्ट में…

 

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

हमारे एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। हमारे सभी खबरों का अपडेट अपने फ़ेसबुक फ़ीड पर पाने  के लिए आप हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक कर सकते हैं, आप हमे  ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी फॉलो कर सकते हैं। वीडियो का नोटिफिकेशन आपको तुरंत मिल जाए इसके लिये आप यहां क्लिक करके हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कर लें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *