Uttar Pradesh

ना मंदिर से राम का, नाही मस्जिद से गूंजेगा रहीम का शोर

​मंदिर व मस्जिद से उतारे गये लाउडिस्पिकर

मुरादाबाद के ठिरिया दान में  ग्रामीणो ने लिया साहसिक फैसला

किसी भी धार्मिक कार्यक्रम में नही बजेगा ध्वनी विस्तारक यंत्र, दोनो पक्षो ने पेश किया सम्प्रदायिक सौहार्द का मिशाल

संतोष कुमार गुप्ता

मुरादाबाद। मुरादाबाद के एक गांव मे ग्रामीणो ने सम्प्रदायिक सौहार्द को लेकर एक साहसिक फैसला लिया है।  जहां धर्मस्थल पर लाउडिस्पिकर लगाने और बजाने के कारण संप्रदायिक माहौल बिगड़ने के हालात पैदा हो जाते हैं, वहीं जिले के भगतपुर थाना क्षेत्र के ठिरिया दान गांव के लोगों ने एकता की मिसाल पेश की। गांव के दोनों समुदाय के लोगों ने मस्जिद और मंदिर दोनों से आपसी सहमति से लाउडिस्पिकरर उतार कर भाईचारे का परिचय दिया है। दोनों समुदाय के लोगों ने साथ ही यह भी निर्णय लिया कि आने वाले समय में किसी भी धार्मिक कार्य में लाउडिस्पिकर का प्रयोग नहीं किया जाएगा।
ये गांव अक्सर दो समुदायों के बीच विवाद में घिरा रहता था, लेकिन आपसी सहमती और हंसी खुशी से लिया गया ये फैसला निसंदेह काबिले तारीफ है। समुदाय के दोनों पक्षों ने हुए आपसी समझौते को बाकायदा लिख कर उसे थाने में भी दे दिया है। फिलहाल गांव वालों ने ये फैसला करके एक मिसाल कायम कर दी है ताकि आपस में कोई विवाद न हो और भाईचारा बना रहे।
गांव के रहने वाले हेमंत शर्मा का कहना है, “हमारे मंदिर पर दो लाउडिस्पिकर थे, जबकि मस्जिद पर सात लगे हुए थे। हमने कहा था कि मस्जिद पर दो लगा लो हम भी दो ही लगाए रखेंगे। लेकिन वो लोग नहीं माने। फिर पंचायत बैठी और दोनों तरफ से तय हुआ कि दोनों धर्मस्थल से लाउडिस्पिकर उतार लिए जाएं। आपस में सहमति बन गई और हमने अपना लाउडिस्पिकर उतार लिया।”
वहीं जाकिर अहमद ने बताया, “हमें पता चला था शिकायत की गई है कि मस्जिद में लाउडिस्पिकर ज्यादा लगे हुए हैं। दूसरे पक्ष ने कहा कि आपके यहां लाउडिस्पिकर अधिक लगे हुए हैं उसे कम कीजिए तो हमने उनसे कहा कि हम तो मस्जिद से सभी लाउडिस्पिकर उतार लेंगे, हमें कोई परेशानी नहीं है। फिर गांव में बैठक हुई, जिसमें सहमति बनी कि दोनों समुदाय के लोग अपने-अपने धर्मस्थल से लाउडिस्पिकर उतार लेंगे। साथ ही कोई भी धार्मिक आयोजन बिना लाउडिस्पिकर के ही संपन्न किया जाएगा।”
क्षेत्राधिकारी चक्रपाणि त्रिपाठी ने बताया, “इस पवित्र माह में इस गांव के दोनों समुदायों के लोगों ने आगे किसी भी विवाद से बचने और भाईचारा बनाए रखने के लिए आपसी सहमति से जो कदम उठाया है, निसंदेह वह तारीफ के काबिल है। इस फैसले से मुरादाबाद के भाईचारे का संदेश लोगों के बीच जाएगा।”

This post was published on जून 3, 2017 20:58

KKN लाइव WhatsApp पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
संतोष कुमार गुप्‍ता

Recent Posts

  • Videos

UP के Politics में जनादेश 2024 के बाद हो सकता है कई बड़े बदलाव, असर Bihar पर भी

यूपी में कौन जीता या कौन हारा... अब इसके कोई मायने नहीं है। पर, इसका… Read More

जून 12, 2024
  • Videos

विवेकानन्द रॉक मेमोरियल में 132 साल बाद फिर पहुंचें नरेन्द्र…

विवेकानन्द रॉक मेमोरियल... प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ध्यान साधना के बाद... अचानक सुर्खियों में है।… Read More

जून 5, 2024
  • Politics

एग्जिट पोल में एनडीए की बढ़त इंडिया ब्लॉक में मची खलबली

इंडिया ब्लॉक में एग्जिट पोल को लेकर असमंजस KKN न्यूज ब्यूरो। भारत में 18वें लोकसभा… Read More

जून 2, 2024
  • Videos

वैशाली समेत बिहार की सभी 40 सीटों का परिणाम चौकाने वाला | चुनावी विश्लेषण

बिहार की सभी 40 सीटों के परिणामों का विश्लेषण पत्रकारों ने किया है, जो काफी… Read More

जून 1, 2024
  • Videos

क्या सच में बदल जायेगा संविधान या पहले ही बदल चुका है संविधान

बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर ने कहा था कि संविधान चाहे जितना अच्छा हो... वह… Read More

मई 29, 2024
  • Videos

जितने के बाद उम्मीदवार 2019 से एक बार भी नहीं दिखे

क्या आपने देखा है कि आपके क्षेत्र के उम्मीदवार जीतने के बाद 2019 से एक… Read More

मई 23, 2024