Categories: Society

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के 12 ठिकानों पर सीबीआई का रेड

राजद ने इसे फंसाने बाली कारवाई बताया

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की मुश्किलें थमने का नाम ही नही ले रही है। चारा घोटाला और जमीन विवाद के बाद अब वे होटल टेंडर के मामले में बुरी तरीके से उलझ चुकें हैं। सीबीआई ने शुक्रवार को लालू यादव के 12 ठिकानों पर छापेमारी करके कई अहम सुराग मिलने का दावा किया है। सीबीआई ने छापामारी के बाद मिले कागजातो के आधार पर केस दर्ज कर लिया है। सीबीआई के द्वारा दर्ज एफआईआर में लालू प्रसाद यादव के अलावा राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव समेत कुल सात लोगों और एक कंपनी का नाम शामिल है। बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के 10 सुकर्लर आवास पर भी छापेमारी की गई है। ये छापेमारी लालू के दिल्ली, पटना, रांची, पुरी और गुरुग्राम में 12 ठिकानों पर एक साथ की गई है। इस छापामारी के बाद बिहार की राजनीति में अचानक गर्माहट आ गई है। राजद ने इसे फंसाने वाले कारवाई बता कर भाजपा को उखाड़ फेकने की बात कही है। वही, भाजपा ने इसे लालू प्रसाद का एक और भ्रष्ट्राचार उजागर होने का दावा किया है।

लालू ने टेंडर के बदले कैसे ली जमीन
सीबीआई ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि लालू ने रेल मंत्री रहते हुए टेंडर के बदले 32 करोड़ की जमीन को 65 लाख रुपये में खरीदा। सीबीआई ने लालू और उनके परिवार समेत आठ लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 420 (धोखाधड़ी), 120 बी (आपराधिक साजिश), 13, 13 (1) (डी) पीसी एक्ट का मामला दर्ज किया गया।

लालू यादव से जुड़े 5 बड़े विवाद

सीबाआई ने बताया कि रेलवे के दो होटल बीएनआर होटल पुरी और रांची के बीएनआर होटल को आईआरसीटीसी को ट्रांसफर किए गए थे। इन होटलों की देखभाल करने और रखरखाव करने के लिए प्राइवेट कंपनी को लीज आउट का फैसला लिया गया। लीज आउट करने के लिए रेलवे ने टेंडर निकाले थे। ये टेंडर सुजाता प्राइवेट लिमिटेड को दिए गए। जांच में पाया गया कि टेंडर देने में गड़बड़ी की गई थी और इस प्राइवेट कंपनी को लाभ दिया गया। सुजाता प्राइवेट लिमिटेड के मालिक विजय कोचर और विनय कोचर है।

जमीन ट्रांसफर करने का हुआ खुलाशा
सुजाता प्राइवेट लिमिटेड ने दो होटलों के टेंडर मिलने के बाद लालू प्रसाद यादव के नाम पर जमीन दी थी। ये जमीन सीधा लालू प्रसाद यादव को ट्रांसफर नहीं की गई थी। पहले ये जमीन सरला गुप्ता की कंपनी मैसर्स डिलाइट प्राइवेट लिमिटेड को ट्रांसफर की गई। इसके बाद 2010 और 2014 के बीच में जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री नहीं थे तो ये जमीन लालू प्रसाद यादव की कंपनी मैसर्स लारा प्रोजेक्ट एलएलपी को ट्रांसफर की गई।

This post was published on जुलाई 7, 2017 21:58

KKN लाइव WhatsApp पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
KKN न्‍यूज ब्यूरो

Recent Posts

  • Videos

जितने के बाद उम्मीदवार 2019 से एक बार भी नहीं दिखे

क्या आपने देखा है कि आपके क्षेत्र के उम्मीदवार जीतने के बाद 2019 से एक… Read More

मई 23, 2024
  • Videos

हर आदमी अगर अपना काम ईमानदारी से करें तो भ्रष्टाचार खत्म हो जाएगा

क्या हर आदमी अगर अपना काम ईमानदारी से करें तो भ्रष्टाचार सच में खत्म हो… Read More

मई 23, 2024
  • Videos

क्या होता है खंडित जनादेश से…

कहतें हैं.... जनादेश... यदि खंडित हो... तो देश का बड़ा नुकसान हो जाता है। आर्थिक… Read More

मई 22, 2024
  • Videos

मोदी जी जीतते हैं तो सिर्फ गुजरात और महाराष्ट्र का विकास…

मोदी जी जीतते हैं तो सिर्फ गुजरात और महाराष्ट्र का विकास... Read More

मई 21, 2024
  • Politics

बिहार: क्या सच में चुनाव हाथ से फिसल गया…

सवाल पान की दुकान पर खड़े लोगों का KKN न्यूज ब्यूरो। क्या नरेन्द्र मोदी के… Read More

मई 19, 2024
  • Videos

Lok Sabha Election 2024: NDA प्रत्याशी वीणा देवी vs मुन्ना शुक्ला

Lok Sabha Election 2024 में NDA प्रत्याशी वीणा देवी और बाहुबली मुन्ना शुक्ला के बीच… Read More

मई 18, 2024