Videos

चुनावी हिंसा, लोकतंत्र के लिए खतरा नहीं, तो और क्या

भारत में 17वीं लोकसभा का चुनाव अब अपने अंजाम की आखरी पड़ाव पर है। मुद्दो की बिछात पर बदजुबानी की भरमार है। सेक्यूलरवाद बनाम राष्ट्रवाद की इस जंग में जीत और हार के मायने बदल गए है। बनते बिगड़ते समीकरण के बीच जन भावनाएं जमींदोज हो रही और आंकड़ो के साथ झूठ पड़ोसने वाले धुरंधरो ने अपनी बाजीगरी की बिसात पर नफरत और घृणा के बीज बो दिए। इतिहास के हवाले से खुलेआम झूठ पड़ोसे जा रहें हैं। कुतर्को को ज्ञान का आधार बना दिया गया है। जाहिर है, ऐसे में रोजगार, सुरक्षा, शिक्षा और चिकित्सा का मुद्दा घोषणापत्र के पन्नो में सिसकियां भरती रह जाये, तो किसी को आश्चर्य नहीं होगा। दौर, ऐसा चला कि आधारभूत संरचनाओं की बातें  बेमानी हो गई। किसी को अपना परिवार खतरे में दिखा, तो किसी को देश की सुरक्षा खतरे में दिखा। बात यहां तक पहुंच गई, कि हमारे रहनुमाओं ने अपने चुनावी सभाओं में संविधान और प्रजातंत्र तक को खतरे में बताना शुरू कर दिया। चिल्ल-पो ऐसी मची कि 21वीं सदी के इस चुनाव में, चुनावी हिंसा पर किसी का ध्यान ही नहीं गया? यह एक बड़ा सवाल है और आज इसी सवाल की हम पड़ताल करेंगे। देखिए, यह रिपोर्ट…

This post was published on मई 17, 2019 17:00

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
सुरज कुमार नि‍षाद

Recent Posts

  • Videos

क्या है प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट- 1991

प्लेसेज ऑफ वर्शिप ऐक्ट इन दिनो काफी चर्चा में है। आख़िर यह कानून है क्या?… Read More

मई 22, 2022
  • Videos

जानिए अनुच्छेद 371 और इसके प्रावधान क्या है

भारत सरकार ने अनुच्छेद 370 को भले खत्म कर दिया। पर, अभी भी कई राज्यों… Read More

मई 15, 2022
  • KKN Special

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि भारत को अंग्रेजो का गुलाम होना पड़ा

इन दिनो भारत में आजादी का अमृत महोत्सव चल रहा है। यह बात हम सभी… Read More

मई 11, 2022
  • Videos

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि हम अंग्रेजो के गुलाम होते चले गए

हम सभी भारतवंशी अपने आजादी का अमृत महोत्सव मना रहें है। यह बात हम सभी… Read More

मई 8, 2022
  • KKN Special

फेक न्यूज की पहचान का आसान तरिका

सूचनाएं भ्रामक हो तो गुमराह होना लाजमी हो जाता है। सोशल मीडिया के इस जमाने… Read More

मई 5, 2022
  • Videos

फेक न्यूज के पहचान का आसान तरिका

सूचनाएं भ्रामक हो तो गुमराह होना लाजमी हो जाता है। सोशल मीडिया के इस जमाने… Read More

मई 1, 2022