मीनापुर के बाढ़ पीड़ितो तक नही पहुंच रहा है राहत

आधा पेट खाकर सड़क किनारे खुले में रहने वालो ने सुनाई दर्द भरी आपबीती कौशलेन्द्र झा हो बउआ, दुपहरिया में एक बेर खाना मिलन ह… उहे खएले, फेनू बिहान खाएला मिलतई…। बाकी किछुओ न मिलल […]