सात फेरो के सातो वचन, प्यारी दुल्हनिया भूल ना जाना…

​दिव्यांग और गरीबी की लडाई मे भारी पड़ा दो चुटकी सिंदूर/ मूकबधिर संजीत ने पेश किया आदर्श विवाह का नमूना/ हर जुबान पर हो रही है बेजुबान संजीत की चर्चा/ चेहराकला के पूनम ने मूकबधिर संजीत को चुना अपना जीवनसाथी

संतोष कुमार गुप्ता

मीनापुर। राज्य सरकार के दहेजबंदी कानून का सबसे बड़ा लाभ उनलोगो के लिए जिनका किस्मत गरीबी के दौर से गुजर रहा है। दुसरी बात यह कि शादी सामारोह को लोग अत्याधुनिक तरीके से सम्पन्न कराते है। किंतु दो चुटकी सिंदूर की क्या होता है कोई संजीत और पूनम से पूछे।

मीनापुर प्रखण्ड के मुस्तफागंज बाजार पर अखबार बेचने वाला मूकबधिर संजीत कुमार के लिए शनिवार की रात खास पल था। एक तरफ दिव्यांग संजीत तो दुसरी तरफ गरीबी की दलदल मे फंसी पूनम। किंतु दिव्यांग और गरीबी की लडाई मे दो चुटकी सिंदूर जीत गया। वैशाली के महुआ प्रखण्ड के चेहराकला गांव मे वधू पक्ष के दरवाजे पर ना पंडाल ना ही डीजे का शोर। दरवाजे पर अन्य दिनो की तरह बिजली का एक बल्व जल रहा है। गरीबी ऐसी की अगर वहां बिजली चली जाये तो जेनरेटर का भी कोई व्यवस्था नही है। शनिवार की रात जब संजीत की बाराती गंजबाजार से चेहराकला के लिए पहुंची तो गांव वाले इकट्ठा हो गये। आनन फानन मे गांव वाले अगल बगल से बेंच और चौकी की व्यवस्था कर वर पक्ष के लोगो को बैठने का व्यवस्था किया। गरीबी ऐसी की वधू पक्ष के लोग कुर्सी की व्यवस्था भी नही कर सके। आर्थिक मजबूरी के कारण वरमाला का सेज भी नही बनाया जा सका। बाराती दरवाजे पर पहुंचने के बाद ना ही वरमाला ना ही तिलक का रस्म हुआ। गांव से मांग कर लाये गये कुर्सी पर बैठाकर दुल्हा का परीछावन किया गया। इसके बाद सीधे मड़वा पर सात फेरो  के रस्म निभाये गये। दो चूटकी सिंदूर को साक्षी मान सात फेरो के सातो वचन पढे गये। चेहराकला के छठी कक्षा तक पढ चुकी पूनम ने मूकबधिर संजीत को अपना जीवनसाथी चुना। उसके चेहरे पर मुस्कान दिख रहे थे। पूनम के घर पर गरीबी की बानगी साफ तौर पर दिख रही थी। पिताजी नशे की गिरफ्त मे रहने के कारण उसका घर आर्थिक तंगी की चपेट मे आ गया था। पुरे रस्म मे पिताजी कहीं नजर भी नही आये। नाना सच्चिदानंद साह ने कन्यादान की रस्म निभायी। पुरे गांव वाले इस अनोखी शादी से खुश थे। मुस्तफागंज बाजार के चाय दुकानदार गरीबनाथ साह के बेटे संजीत कुमार को जुबान नही है। वह जन्म से ही मूकबधिर है। वावजूद वह पेपर बेचता ही नही है बल्कि अक्षर को देखकर इशारे मे बता देता है कि क्या लिखा है। वह चाय से लेकर जलेबी और पकौड़े भी बना लेता है। भले ही वह बेजुबान है किंतु उसने आदर्श विवाह की बानगी पेश की है।

This post was published on मई 14, 2018 18:34

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
संतोष कुमार गुप्‍ता

Recent Posts

  • National

प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट- 1991 क्या है

प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट इनदिनो काफी चर्चा में है। आख़िर यह कानून है क्या? इसको… Read More

मई 24, 2022
  • Videos

क्या है प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट- 1991

प्लेसेज ऑफ वर्शिप ऐक्ट इन दिनो काफी चर्चा में है। आख़िर यह कानून है क्या?… Read More

मई 22, 2022
  • Videos

जानिए अनुच्छेद 371 और इसके प्रावधान क्या है

भारत सरकार ने अनुच्छेद 370 को भले खत्म कर दिया। पर, अभी भी कई राज्यों… Read More

मई 15, 2022
  • KKN Special

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि भारत को अंग्रेजो का गुलाम होना पड़ा

इन दिनो भारत में आजादी का अमृत महोत्सव चल रहा है। यह बात हम सभी… Read More

मई 11, 2022
  • Videos

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि हम अंग्रेजो के गुलाम होते चले गए

हम सभी भारतवंशी अपने आजादी का अमृत महोत्सव मना रहें है। यह बात हम सभी… Read More

मई 8, 2022
  • KKN Special

फेक न्यूज की पहचान का आसान तरिका

सूचनाएं भ्रामक हो तो गुमराह होना लाजमी हो जाता है। सोशल मीडिया के इस जमाने… Read More

मई 5, 2022