Society

बिहार में मानव श्रृंखला की हकीकत और फंसाना

बिहार। बिहार के लोगो ने रविवार को एक और मानव श्रृंखला देखा। आज से ठीक एक वर्ष पहले बिहार ने शराब बंदी को लेकर मानव श्रृंखला बना कर विश्व कीर्तिमान बनाया था। बहरहाल, बाल विवाह और दहेज के खिलाफ रविवार को राज्यव्यापी मानव श्रृंखला तो बनी। किंतु, यह कितना सफल हुआ? इस बात को लेकर पक्ष और विपक्ष के बीच ठन गई है।

सरकारी रिपोर्ट की रिपोर्ट की माने तो बिहार एक बार फिर से नए कीर्तिमान बनाने की ओर अग्रसर है। रिपोर्ट बताता है कि यह मानव श्रृंखला, नेशनल हाइवे, स्टेट हाइवे, जिला, प्रखंड, पंचायत, गांवों की विभिन्न सड़कों और पगडंडियों से होकर गुजरी और तकरीबन 4.5 करोड़ लोगों ने हिस्सा लिया। वही, मुख्य विपक्षी राजद ने इसे सरकारी नौटंकी बता कर आज के मानव श्रृंखला को खारिज कर दिया है। विपक्ष का मानना है कि लोगो ने मानव श्रृंखला का बहिष्कार करके सरकार के जन बिरोधी नीतियों के प्रति अपने आक्रोश का इजहार कर दिया है।
खबरो के मुताबिक मानव श्रृंखला का मुख्‍य केंद्र पटना का गांधी मैदान रहा। यहां स्वयं सीएम नीतीश कुमार के साथ डिप्‍टी सीएम सुशील मोदी तथा अन्‍य मंत्री कतार में खड़े हुए और यहां 50-50 गुव्वारों के 100 गुच्छों को आसमान में उड़ाकर इसकी शुरुआत की।। सरकारी रिपोर्ट की माने तो खगड़िया में सुबह 10 बजे से ही एनएच 31 पर बड़े वाहनों का परिचालन बंद हो गया था। नतीजा, भागलपुर-खगड़िया सीमा पर वाहनों की लंबी कतारें लग गई। बताया जा रहा है कि मानव श्रृंखला में शामिल होने के लिए मधुबनी में सड़कों पर बैंड पार्टी निकल पड़ी।
इसी प्रकार नवादा में मानव श्रृंखला में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, प्रभारी मंत्री श्रवण कुमार, एमएलसी सलमान रागीव, डीएम आदि शामिल हुए। भारत नेपाल सोनबरसा बॉर्डर पर भी मानव शृंखला बनाई गई। इसमें जवानों और लोगों ने मिलकर हिस्सा लिया। दरभंगा, मधुबनी, बेतिया, पूर्वी चंपारण, गया, जहानावाद, अररिया, पूर्णिया, किसनगंज, सीतामढ़ी, शिवहर आदि जिलों में मानव श्रृंखला में लोगो के शामिल होने की सूचना है। इसके अतिरिक्त बिहार के तकरीबन सभी जिलो से भी मानव श्रृंखला की लगातार खबरे आ रही।

This post was published on जनवरी 21, 2018 17:15

KKN लाइव टेलीग्राम पर भी उपलब्ध है, खबरों की खबर के लिए यहां क्लिक करके आप हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर सकते हैं।

Show comments
Published by
KKN न्‍यूज ब्यूरो

Recent Posts

  • Videos

जानिए अनुच्छेद 371 और इसके प्रावधान क्या है

भारत सरकार ने अनुच्छेद 370 को भले खत्म कर दिया। पर, अभी भी कई राज्यों… Read More

मई 15, 2022
  • KKN Special

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि भारत को अंग्रेजो का गुलाम होना पड़ा

इन दिनो भारत में आजादी का अमृत महोत्सव चल रहा है। यह बात हम सभी… Read More

मई 11, 2022
  • Videos

प्लासी में ऐसा क्या हुआ कि हम अंग्रेजो के गुलाम होते चले गए

हम सभी भारतवंशी अपने आजादी का अमृत महोत्सव मना रहें है। यह बात हम सभी… Read More

मई 8, 2022
  • KKN Special

फेक न्यूज की पहचान का आसान तरिका

सूचनाएं भ्रामक हो तो गुमराह होना लाजमी हो जाता है। सोशल मीडिया के इस जमाने… Read More

मई 5, 2022
  • Videos

फेक न्यूज के पहचान का आसान तरिका

सूचनाएं भ्रामक हो तो गुमराह होना लाजमी हो जाता है। सोशल मीडिया के इस जमाने… Read More

मई 1, 2022
  • Muzaffarpur

इन कारणो से है मुजफ्फरपुर के लीची की विशिष्ट पहचान

अपनी खास सांस्कृतिक विरासत के लिए दुनिया में विशिष्ट पहचान रखने वाले भारत की अधिकांश… Read More

अप्रैल 29, 2022