मीनापुर में मुखिया संघ का अनशन शुरू

प्रखंड के 21 हजार बाढ़ पीड़ितों को नकद मुआवजा से वंचित करने का लगाया आरोप/ प्रशासन पर लगाया मनमानी का आरोप, योजनाओं की राशि का नहीं हो रहा भुगतान / प्रखंड की28 पंचायतों के मुखियों व जनप्रतिनिधियों का अनिश्चितकालीन अनशन

मुजफ्फरपुर। मीनापुर प्रखंड के 21 हजार बाढ़ पीड़ितों को नकद मुआवजा से वंचित करने के विरोध में मुखियों ने सोमवार से अनशन शुरू कर दिया है। प्रखंड मुख्यालय पर सभी 28 पंचायतों के मुखिया व अन्य जनप्रतिनिधि 11 सूत्री मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठे हुए हैं। मुखियों का आरोप है कि प्रशासन की मनमानी से लोगों को मुआवाज नहीं मिला है।
प्रखंड मुखिया संघ की अध्यक्ष नीलम कुमारी के नेतृत्व में अनशन करने वाले मुखियों व प्रतिनिधियों ने अंचल प्रशासन पर 21 हजार परिवार को नकद मुआवजा से वंचित कर देने का आरोप लगाते हुए, सभी को शीघ्र मुआवजा देने की मांग की है। सूचना पर पहुंचे बीडीओ संजय कुमार सिन्हा व सीओ ज्ञानदीप श्रीवास्तव ने अनशकारियों को मनाने का प्रयास किया। लेकिन अनशनकारी सभी 11 मांगों पर लिखित आश्वासन की मांग कर रहे थे। देर शाम एसडीओ पूर्वी सुनील कुमार ने भी अनशनकारियों से वार्ता की। लेकिन वार्ता विफल हो गई।

इन मांगों को लेकर कर रहे है अनशन

अनशन पर बैठे जनप्रतिनिधियों का कहना है कि प्रशासन ने बाढ़ के दौरान हुई फसल क्षति का सर्वे बिलंब से किया, इस कारण से क्षति का सही आकलन नहीं हुआ। शीघ्र फसल क्षति मुआवजा देने की मांग, बाढ़ पीड़ितों के लिए चलाए गए सामुदायिक रसोई में हुए खर्च का भुगतान करने में प्रशासन पर आनाकानी का आरोप लगाते हुए, भुगतान होने तक आंदोलन जारी रखने की बात कही। साथ ही लंबित सामाजिक सुरक्षा पेंशन का भुगतान, मनरेगा के बकाया मजदूरी का भुगतान, पीएम आवास योजना में वंचित परिवार को शामिल करने, कबीर अंत्येष्ठि व कन्या विवाह योजना की राशि निर्गत करने, राशन कार्ड से वंचित परिवारों का नाम जोड़ने की मांग कर रहे हैं।

शीघ्र पेंशन भुगतान का मिला अश्वासन

सामाजिक सुरक्षा पेंशन के तहत लाभार्थियों की कुल संख्या 23,400 है। बीडीओ संजय कुमार सिन्हा ने बताया कि इसमें 22 हजार पेंशनधारियों का भुगतान अंतिम चरण में है। बीडीओ ने बताया कि बाकी बचे 1,400 लाभार्थियों की सूची में त्रुटी है। जिसे ठीक कर शीघ्र ही पेंशन राशि का भुगतान कर दिया जाएगा।

अनशन पर बैठे जनप्रतिनिधि

नीलम कुमारी के नेतृत्व में अनशन पर बैठने वालों में मुखिया संगीता कुमारी, महानन्द राय, इंदल सहनी, रेणु सिंह, चन्देश्वर प्रसाद, रामप्रीत राम, सुधा देवी, संजू देवी, नागेन्द्र साह, जगदीश साह, कृष्णकुमार मुन्ना, किशोरी राम, पुनम देवी, मेघनी देवी, रेखा रानी, नजबुन निशा, अनिता कुमारी, बिन्दु देवी, गुड़िया देवी, अनामिका, बन्दना भारती, अजय कुमार, ममता देवी, वारिश खान आदि शामिल हैं।