फॉर्मेलिन के बहाने निशाने पर है निषाद समाज : मुकेश

वीआईपी नेताओं ने शुरू की अनशन

राजकुमार सहनी
बिहार की राजधानी पटना के गर्दनीबाग में विकासशील इंसान पार्टी का अनिश्चितकालीन आमरण अनशन मंगलवार को शुरू हो गया। आंध्रप्रदेश व अन्य राज्यों से लाई गई मछलियों की बिक्री पर बिहार में प्रतिबंध लगा देने से विकासशील इंसान पार्टी का आक्रोश फूट पड़ा है।


मछुआरा विरोधी है निर्णय


इस बीच पहले ही रोज अनशनकारियों को संबोधित करते हुए वीआईपी सुप्रीमो मुकेश सहनी ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बिहार सरकार का यह निर्णय मछुआरा विरोधी व राजनीति से प्रेरित है। कहा कि इस फैसले से लाखों मछुआरा परिवारों के लिए रोटी-रोजी का संकट पैदा हो गया है। विकासशील इंसान पार्टी ने प्रतिबंध हटाने के लिए सरकार को 48 घंटे का अल्टीमेटम दिया था वह आज समाप्त होने के बाद पार्टी ने आमरन अनशन शुरू कर दिया है।


माछ भात के आयोजन से घबराई सरकार


श्री सहनी ने कहा कि उनकी पार्टी वीआईपी ने बिहार के विभिन्न जिलों में माछ-भात भोज का आयोजन करने की घोषणा की थी और इस अभियान की सफलता को देखकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार परेशान हो गयें हैं। लिहाजा, उन्होंने राजनीतिक कारणो से मछली पर प्रतिबंध लगा दिया है। आगामी लोकसभा चुनाव में इसका खामियाजा सत्तारुढ़ जदयू और भाजपा को भुगतना पड़ेगा।


ये भी थे मौजूद


इस मौके पर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैधनाथ सहनी, प्रदेश युवा अध्यक्ष गौतम बिंद, वंश वैज्ञानिक शिवबचन प्रसाद नोनिया, उपेंद्र सहनी, सुनील निषाद, प्रधुम्न केवट, राजाराम मुखिया, सीताराम मुखिया, शिवजी सहनी, भोगी सहनी, राजकुमार निषाद, उमेश प्रसाद निषाद, हीरालाल निषाद, बैजयंता बिंद, स्वर्णलता सहनी, मिथुन कुमार, सागर केवट समेत बड़ी संख्या में पार्टी के पदाधिकारी मौजूद थे।