सारण का मुख्य तटबंध बैकुंठपुर में टूटा

मुजफ्फरपुर सहित कई इलाको में घुसा बाढ़ का पानी, दहशत

बिहार। उत्तर और पूर्वी बिहार में बाढ़ का कहर जारी है। पूर्णिया, कटिहार, मधेपुरा और मुजफ्फरपुर के कई नए इलाकों में बाढ़ का पानी घुस जाने से लोगों की मुश्किलें बढ़ी है। समस्तीपुर जिले में भी पानी घुस गया है। शुक्रवार को बैकुंठपुर के मुंजा में सारण का मुख्य तटबंध टूट गया। इससे गांव के पांच हजार लोग पानी में फंस गए। वहीं बैकुंठपुर के चिउटांहा में दो सगी बहनो के बाढ़ के पानी में डूबने से मौत हो गई। इस बीच बूढ़ी गंडक नदी का पानी मुजफ्फरपुर के कई नए इलाको में दस्तक देने लगी है।
इससे पहले बुधवार रात को मोतिहारी शहर को भी बाढ़ ने अपनी चपेट में ले लिया। गोपालगंज के बैकुंठपुर प्रखंड के बंगरा गांव के पास सारण मुख्य तटबंध गुरुवार की शाम 50 फुट में टूट गया।
उधर, मधुबनी में कोसी, कमला, धौस नदी के साथ अब गेहुमां नदी भी उफना गई है। इससे जिले में बाढ़ की स्थिति भयावह हो गई है। सूबे में पिछले 24 घंटे में बाढ़ के कारण 44 लोगों की मौत हो गई। पिछले 4 दिनों में कुल 110 से ज्यादा मौतें हुईं हैं। बिहार के 17 जिलों में 90 लाख से ज्यादा आबादी प्रभावित हो गई है। मधेपुरा में सर्वाधिक प्रभावित आलमनगर और चौसा प्रखंड के अलावा और छह प्रखंड चपेट में आ गए। जिले में भलुआही के पास एनएच 106 की सड़क करीब 25 फीट कट जाने से यातायात ठप हो गया है। मालदा में भी पानी घुस गया है। कटिहार से मालदा जाने वाली सभी ट्रेनें रद्द कर दी गई हैं।
कटिहार के नए इलाकों में सदर प्रखंड के भसना, मनसाही और कोढ़ा प्रखंड के कुछ हिस्सों में भी पानी फैलने लगा है। वहीं पूर्णिया जिले में बायसी अनुमंडल के बाद अब पानी बनमनखी और धमदाहा अनुमंडल क्षेत्र में बढ़ रहा है। बनमनखी प्रखंड की 10 पंचायत बाढ़ की चपेट में आ गई है। वहां एनएच 107 पर गुरुवार से वाहनों का परिचालन भी बाधित हो गया है। इधर, मुजफ्फरपुर जिला के मीनापुर के एक दर्जन पंचायतो में बूढ़ी गंडक नदी का पानी आंशिक रूप से प्रवेस कर जाने से लोगो में दहशत है। खेतो में खड़ी मकई की फसल पर इसका प्रतिकूल असर पड़ा है। इस बीच रघई के समीप नदी के कटाव की चपेट में आने से पांच घर नदी में समा गया है।
मोतिहारी शहर के 11 वार्डो में भी पानी घुस गया है। मोतिहारी-छौड़ादानो पथ में लखौरा के आगे सड़क पर तीन से चार फुट पानी बहने से आवागमन ठप है। समस्तीपुर के दरभंगा जिले से सटे इलाकों में भी पानी घुस गया। जिले के हसनपुर, बिथान, सिंघिया और चकमहेशी के कई गांवों में बागमती और बलान नदी का पानी घुस गया है।
उधर, गोपालगंज के सदौवा में गंडक नदी का मुख्य तटबंध टूटने के बाद बाढ़ का पानी बरौली व सिधवलिया प्रखंडों के करीब 20 गांवों में प्रवेश कर गया है। बरौली में एनएच 28 पर पानी चढ़ जाने से आवागमन ठप हो गया है। जिले के 174 गांव बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं।