मुजफ्फरपुर के ग्यारह प्रखंड बाढ़ की चपेट में

मुजफ्फरपुर। मुजफ्फरपुर शहर के अतिरिक्त ग्यारह प्रखंड बाढ़ की चपेट में आ गया है। इसमें मीनापुर, औराई, मुशहरी, बोचहां, कटरा, बंदरा, मुरौल, कांटी, पारू, गायघाट व साहेबगंज शामिल है। जानकारी के मुताबिक बागमती, गंडक व बूढ़ी गंडक में आई बाढ़ ने शहर सहित उक्त सभी प्रखंडो में भारी तबाही मचा दी है।
बाढ़ से जिले के सात लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। लोगों को सहायता पहुंचाने के लिए जिले में अब तक 44 सहायता कैंप खोले जा चुके हैं। बावजूद बाढ़ पीड़ितो तक प्रयाप्त राहत नही पहुंचने से लोगो में गुस्सा है। जिला प्रशासन से उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक अब तक साढ़े 14 हजार पॉलीथिन शीट्स बंट चुके हैं और 15 हजार शीट्स की और जरूरत बताई गयी है। खोले गये राहत कैंप में अब तक 9,363 लोगों का इलाज किया गया है। वही ग्रामीण इलाके के पीएचसी में बाढ़ जनित रोगों के 21,788 पीड़ितों का इलाज हुआ है। जिले के बाढ़ पीड़ितों के बीच एक लाख 11 हजार 854 हैलोजन टैबलेट बांटे गए हैं।
बाढ़ पीड़ितों की सहायता के लिए 150 टेंट लगाए गए हैं और भवन निर्माण विभाग को और टेंट लगाने का आदेश दिया गया है। जिला प्रशासन के अनुसार जिले के बोचहां में 11, मुशहरी में 25, मीनापुर में 50, औराई में 40, कटरा में 18, बंदरा में चार, मुरौल में तीन, कांटी में 15, पारू में सात, गायघाट में पांच व साहेबगंज में 13 राहत कैंप चलाए जा रहे हैं। वहीं, पीड़ितों के बीच अब तक 50 हजार फूड पैकेट बांटे गयें हैं। जिला प्रशासन ने बाढ़ पीड़ितों की जरूरत को देखते हुए आम लोगों के साथ ही विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं से मदद के लिए आगे आने की अपील की है।