बिहार में थमने का नाम नही ले रहा है बाढ़ का कहर

अब तक 202 की मौत की हुई पुष्टि

बिहार। बिहार में बाढ़ की तबाही तबाही थमने का नाम ही नही ले रही है। लगातार हुई भारी बारिश के कारण अचानक आई बाढ़ से राज्य में अब तक 202 लोगों की मौत हो जाने के साथ बाढ़ से 18 जिलों की 1.21 करोड़ आबादी बुरी तरीके से प्रभावित हुई है।
राज्य के 18 जिलों में किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सीतामढी, शिवहर, समस्तीपुर, गोपालगंज, सारण, सुपौल, मधेपुरा, सहरसा और खगड़िया में से सबसे अधिक 42 लोग सीतामढी में 31, पश्चिमी चंपारण में 29, सुपौल में 13, मधुबनी में 12, किशनगंज और पूर्वी चंपारण में 11-11, दरभंगा में 10, मधेपुरा और पूर्णिया में 9-9, कटिहार में 7, शिवहर, गोपालगंज और सहरसा में 4-4, खगड़िया में 3, सारण में 2 और मुजफ्फरपुर में दो व्यक्ति की मौत चुकी है।
अब तक राज्य में 625788 लोगों को बाढ़ प्रभावित इलाके से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है और 1336 राहत शिविरों में 422106 व्यक्ति शरण लिए हुए हैं। एनडीआरएफ की 28 टीम 1152 जवानों एवं 118 वोट के साथ, एसडीआरएफ की 16 टीम 446 जवानों और 92 वोट के साथ तथा सेना की 7 कालम 630 जवानों और 70 बोट के साथ बचाव एवं राहत कार्य में जुटी हुई हैं।