बुलंदशहर हिंसा में इंस्पेक्टर समेत दो की मौत, जांच के लिए एसआईटी गठित

बुलंदशहर हिंसा

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में सोमवार को भड़की हिंसा में स्याना थाने के इंस्पेक्टर की मौत हो गई और पुलिस की गोली से एक युवक की मौत हो गई है। बतातें चलें कि गोकशी के बाद मचे बवाल में गुस्साई भीड़ ने पुलिस पर पथराव करते हुए पुलिस के कई वाहन फूंक दिए और चिंगरावठी पुलिस चौकी में आग लगा दी। इस दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार के सिर में पत्थर लगने से उनकी मौत हो गई है। इस मामले में पुलिस की गोली से घायल हुए युवक सुमित की भी इलाज के दौरान मौत हो गई है। हालात अब नियंत्रण में है।

 

गोवंश को काटने से फूटा आक्रोश

घटना रविवार रात की है। बताया जा रहा है कि थाना कोतवाली क्षेत्र के महाव गांव के जंगल में अज्ञात लोगों ने करीब दो दर्जन गोवंश को काट डाले। गोवंश काटने की सूचना मिलने पर कई हिन्दू संगठन सहित स्थानीय लोगों में आक्रोश भड़क गया। गुस्साए लोग घटनास्थल पर पहुंचे और गोवंश के कटे अवशेषों को ट्रैक्टर ट्रॉली में भरकर चिंगरावठी पुलिस चौकी पर पहुंच गए और प्रदर्शन करने लगे।

पुलिस पर किया पथराव

गुस्साई भीड़ ने बुलंदशहर-गढ़ स्टेट हाईवे पर ट्रैक्टर ट्रॉली लगाकर रास्ता जाम कर दिया और पुलिस प्रशासन के खिलाफ जोरदार नारेबाजी शुरू कर दी। सूचना मिलने पर एसडीएम और सीओ मौके पर पहुंचे और लोगो को समझाने का प्रयास किया। किंतु, लोगों का गुस्सा और भड़क गया और पुलिस पर पथराव करना शुरू कर दिया। पुलिस ने भी जवाब में फायरिंग की, जिसमें चिंगरावठी निवासी सुमित को गोली लग गई। इसके बाद युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसकी मौत हो गई। इसके बाद बेकाबू भीड़ ने पुलिस के कई वाहन फूंक दिए। साथ ही चिंगरावठी पुलिस चौकी में आग लगा दी।