नकाबपोश अपराधियों ने फाइनेंस कंपनी से लूटे 2.36 लाख रुपये

लूटेरा

KKN न्‍यूज ब्‍यूरो। बिहार में अपराध की घटनाएं थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। मुजफ्फरपुर जिला के मीनापुर थाना से दो किलोमीटर की दूरी पर बहबल बाजार के एक निजी माइक्रो फाइनेंस कंपनी के कार्यालय से नकाबपोश अपराधियों ने हथियार के बल पर 2.36 लाख रुपये लूट कर पुलिस को जबरदस्त चुनौती दे दिया है। बताया जा रहा है कि दो बाइक सवार चार नकाबपोश अपराधियो ने मंगलवार की दोपहर ढाई बजे दिन के उजाले में घटना को अंजाम देकर आराम चले गए और किसी को इसकी कानो-कान भनक तक नहीं लगी। इस संबंध में प्रबंधक सुशील कुमार सिंह के बयान पर थाने में एफआईआर दर्ज होने के बाद जब पुलिस हरकत में आई तब जाकर लोगो को मालुम चला।

पुलिस के अधिकारी के मुताबिक मामला संदिग्ध

इधर, थानाध्यक्ष दिनेश कुमार ने बताया कि प्रारंभिक छानबीन में मामला संदेहास्पद लग रहा है। पुलिस ने कार्यालय के सभी रजिस्टर को जांच के लिए जब्त कर लिया है। ताज्जुब की बात तो ये कि घटना की छानबीन में जुटी पुलिस को कैश ड्रा से 1.14 लाख रुपये भी मिले हैं। अब सवाल उठ रहा है कि अपराधियों ने उक्त राशि को क्यों छोड़ दिया?

ऐसे हुई घटना

शाखा प्रबंधक ने पुलिस को बताया कि घटना के वक्त दो महिला ग्राहक कार्यालय में मौजूद थीं। चार नकाबपोश अपराधी अचानक से कार्यालय में घुस आये और भीतर से कमरे को बंद करके सभी को गन प्वाइंट पर ले लिया और दराज से 2 लाख 36 हजार 275 रुपये लूटकर फरार हो गए। अपराधियों ने सभी कर्मियों व ग्राहकों को कार्यालय में ही बाहर से बंद कर दिया। बाद में एक कर्मी खिड़की से होकर बाहर निकला और मेनगेट खोला। गौरतलब है कि घटना के बाद किसी भी कर्मचारी ने शोर नहीं मचाया और ग्रामीणों को बहुत देर के बाद घटना की जानकारी मिलना वास्तव में चौका देता है।

पूर्व में भी कार्यालय हो चुका है सील

इससे पहले 19 अगस्त 2015 को पुलिस ने इस कार्यालय पर फर्जीवाड़ा के आरोप में एफआईआर दर्ज की थी। इसके एक कर्मचारी को उस वक्त गिरफ्तार भी किया गया था और कार्यालय को सील कर दिया गया था। हालांकि, लंबी जांच के बाद प्रशासन ने दोबारा कार्यालय चलाने की अनुमति दे दी थी। इस घटना के बाद इलाके में तरह-तरह की बातें कही जा रही है।