मोदी से गले मिले या गले पड़ गये राहुल

… और अपना भाषण खत्म करने बाद कॉग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी सीधे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के समीप पहुंच कर उन्हें गले से लगा लिया।

मौका था लोकसभा में अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा का। उस वक्‍त सब हैरान रह गए, जब कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने अपना भाषण समाप्‍त करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास पहुंच गए और पीएम के सीने से लिपट गए। बाद में पीएम मोदी ने राहुल की पीठ थपथपाई। पूरा सदन हैरत में था। किसी को इसकी उम्मीद नहीं थी। अब राजनीति के जानकार कहने लगे है कि राहुल गांधी ने पीएम मोदी से गले मिलाया या पीएम मोदी के गले पड़ गये?
चौकाने वाला था राहुल के तेवर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार के खिलाफ लोकसभा में अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा के दौरान राहुल गांधी के तेवर लगातार हमलावर रहे। उन्‍होंने सरकार को कई मुद्दों पर घेरा और सीधे तौर पर प्रधानमंत्री मोदी को निशाना बनाया। लेकिन इस बीच, कई ऐसे कई क्षण आए, जब सदन ठहाकों से गूंज पड़ा। अपने भाषण के दौरान लगातार पीएम मोदी के खिलाफ हमलावर तेवर अपनाने वाले राहुल गांधी अपना भाषण समाप्‍त करने के बाद अचानक उस तरफ बढ़े, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बैठे थे। संसद के सदस्‍य देखते रह गए और फिर वह प्रधानमंत्री के गले जा लगे। इसके बाद जब वह लौटने लगे तो प्रधानमंत्री ने उन्‍हें बुलाया और हाथ मिलाकर उनकी पीठ भी थपथपाई।
राहुल ने खुद के पप्पू कहने पर चुटकी ली
इससे पहले कांग्रेस अध्‍यक्ष ने जोर देकर कहा कि उनके मन में प्रधानमंत्री, बीजेपी और आरएसएस के प्रति किसी तरह की दुर्भावना नहीं है। बल्कि वह इन सभी के आभारी हैं। कहा कि आपने मुझे हिन्‍दुस्‍तानी होने का मतलब समझाया। उस वक्‍त सदन ठहाकों से गूंज पड़ा, जब राहुल गांधी ने सदन में स्वयं कह दिया कि आप मुझे ‘पप्‍पू’ कहकर मेरा मजाक उड़ाते रहते है। बावजूद इसके मेरे मन में आपके लिए कोई दुर्भवाना नहीं है। इससे पहले प्रधानमंत्री की ओर मुखातिब होकर कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा कि आपके लिए मैं भले ही पप्‍पू हूं, आपके दिल में मेरे लिए कोई नफरत नहीं है। राहुल ने कहा कि मैं आपसे बहुत प्‍यार करता हूं। इसके बाद ही वह अपनी सीट से प्रधामनंत्री के पास जा पहुंचे और उनके गले जा लगे।