भगवा आतंकवाद कॉग्रेसी सोच की उपज : साध्वी प्रज्ञा

मुंबई एटीएस पर प्रताड़ना का लगाया आरोप

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि भगवा आतंकवाद शब्द कॉग्रेस की देन है। नौ साल तक जेल में रहने के बाद जमानत पर निकली साध्वी प्रज्ञा ने मुबंई एटीएस पर कई गंभीर आरोप लगायें हैं। कहा कि मुंबई एटीएस ने 10 अक्तूबर 2008 को सूरत से गिरफ्तार कर मुझे मुंबई ले गई और कोर्ट को संज्ञान में दिए बिना ही 13 दिनो तक पूछताछ के नाम पर मुझे अवैध रूप से प्रताड़ित किया गया। इस दौरान उनकी तबियत बिगड़ गई।
मालेगांव विस्फोट के सिलसिले में जिस बाइक के बिना पर एनआईए ने उन्हें गिरफ्तार किया था। साध्वी ने दावा किया है कि वह बाइक घटना से चार साल पहले ही उन्होंने बेच दी थी। इसी को आधार बनाते हुए मुंबई उच्च न्यायालय ने 2008 के मालेगांव बम विस्फोट की साजिश रचने की आरोपित साध्वी प्रज्ञा को यह कहकर जमानत दी है कि उनके खिलाफ प्रथम दृष्टया कोई मामला नहीं बनता है।
दरअसल, 29 सितंबर 2008 में हुए मालेगांव ब्लास्ट में 8 लोग मारे गए थे और 80 से अधिक लोग जख्मी हुए थे। ब्लास्ट के लिए बम को मोटर साईकिल में लगाया गया था। एनआईए ने इसी बाइक को आधार बना कर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ्तार कर लिया था और प्रज्ञा ठाकुर को लगभग नौ सालो तक जेल में रहना पड़ा। इस दौरान उनकी तबियत बिगड़ गई और खुशीलाल आयुर्वेदिक अस्पताल में आज भी उनका इलाज चल रहा है। कहा जाता है कि उन्हें कैंसर है।