कैंसर प्रभावित गोरीगामा को लेकर हरकत में आया पीएमओ

खबरो का अपडेट पढ़ने के लिए KKN Live का न्यूज एप प्लेस्टोर से डाउनलोड कर लें।

मुजफ्फरपुर। मीनापुर का गोरीगामा पंचायत पीएमओ के संज्ञान में आ गया है। दरअसल, पिछले एक दशक में पंचायत के 40 लोगो की कैंसर से मौत होने की खबर को पीएमओ ने गंभीरता से लिया है। बतातें चलें कि यहां आज भी पांच लोग कैंसर से पीड़ित है।

पीएमओ ने एनसीडी दिल्ली के नन कम्युनिकेबल डिजीज कंट्रोल के निदेशक को मीनापुर की समस्या पर पहल करने को कहा है। पीएमओ ने विशेषज्ञों की टीम भेजकर प्रखंड के गोरीगामा पंचायत में पीड़ितों की जांच करने का आदेश जारी कर दिया है। इसके बाद गोरीगामा पंचायत के गोरीगामा, टेंगराहां और सलेमापुर के कैंसर पीड़ित को न्याय मिलने की उम्मीद बढ़ गई है।
बतातें चलें कि गोरीगामा निवासी शिक्षक विवेक कुमार ने पीएमओ को पत्र लिख कर मदद की गुहार लगाई थी। शिक्षक विवेक ने बताया कि अब तक कई बार स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में आ चुकी है। पीचईडी विभाग पानी की जांच करवा चुका है। लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। दूसरी ओर कैंसर पीड़ित जमीन बेचकर इलाज करवाने को विवश हैं। इधर, सीएस डॉ. ललिता सिंह ने भी मीनापुर की गोरीगामा पंचायत में कैंसर की समस्या होने की पुष्टि कर दी है। स्थानीय स्तर पर टीम से सर्वे कराया गया है। किंतु, स्थानीय स्तर पर इस बीमारी को लेकर किसी तरह की पहल करना मुश्किल हो रहा है।
बतातें चलें कि कैंसर के कहर से गांव के लोग सहमे हुए हैं। कैंसर से मौत के बाद कई लोगों ने गांव में रहना छोड़ दिया है। जो लोग गांव में रहते हैं वे पानी खरीद कर पीते हैं। समस्या को लेकर राज्य स्तर पर कोई पहल नहीं होने पर पीएमओ को अप्रैल के अंतिम सप्ताह में ऑन लाइन आवेदन भेजकर पीड़ितों का इलाज व सहायता के लिए आग्रह किया गया था। शिक्षक विवेक कुमार ने बताया कि गांव के लोग जनप्रतिनिधियों से लेकर अधिकारियों तक को समस्या से अवगत करा चुके हैं। बावजूद इसके अब तक कारगर पहल नही होने से लोग निराश होने लगे थे। किंतु, अब पीएमओ के हस्तक्षेप से लोगो की उममीद काफी बढ़ गई है।