मीनापुर में फर्जी पंचायत शिक्षकों को बर्खास्त करने का आदेश जारी

पिछले सप्ताह बर्खास्त किये गये थे 98 फर्जी प्रखंड शिक्षक

मुजफ्फरपुर। शिक्षक नियोजन फर्जीवाड़े को लेकर मीनापुर सुर्खियों में है। पिछले सप्ताह 98 फर्जी प्रखंड शिक्षक के बर्खास्तगी के बाद अब बाकी बचे 46 पंचायत शिक्षको पर बर्खास्तगी की तलवार लटक चुकी है। प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी विजय झा ने प्रखंड में पूर्व से चिह्नित 46 फर्जी नियोजित पंचायत शिक्षकों को बर्खास्त करने के लिए संबंधित पंचायत के सचिवों को नये सिरे से पत्र जारी कर दिया है। इस पत्र के साथ फर्जी शिक्षिकों की सूची भी जारी की गई है। साथ ही इन्हें तत्काल बर्खास्त करने का निर्देश पंचायत सचिवों को दिया गया है। इस पत्र के जारी होते ही फर्जीवाड़े से जुड़े लोगो में हड़कंप मचा है।
बहरहाल, बीईओ श्री झा ने आठ पंचायत को आदेश जारी किया है। जिन पंचायतों को पत्र लिखा गया है उनमें नंदना पंचायत के 9, मझौलिया में 3, पैगम्बरपुर में 8, टेंगरारी में 7, महदेइयां में 4, मदारीपुर कर्ण में 3, अली नेउरा में 7 और कोइली पंचायत में 5 फर्जी नियोजित शिक्षकों को बर्खास्त करने का आदेश दिया गया है। दरअसल, मीनापुर के 144 फर्जी नियोजित शिक्षकों पर इसी वर्ष फरवरी में मीनापुर थाने में एफआईआर दर्ज की गई थी। इनमें से 98 प्रखंड शिक्षकों को पिछले सप्ताह ही बर्खास्त कर दिया गया। उसके बाद बाकी बचे 46 पंचायत शिक्षकों की बर्खास्तगी की मांग जोर पकड़ने लगी है।

366 अन्य शिक्षकों की जांच अंतिम चरण में

इससे इतर मीनापुर में 366 अन्य शिक्षकों की जांच भी अंतिम चरण में है। आशंका है कि इस जांच में भी कई फर्जी शिक्षक चिह्नित हो सकते हैं। दूसरी तरफ जांच और कार्रवाई में तेजी लाने की मांग को लेकर पूर्व विधायक जनकधारी प्रसाद कुशवाहा के नेतृत्व में सर्वदलीय संयुक्त मोर्चा बनाने की कवायद तेज है। इसका असर भी शिक्षा महकमे पर पड़ने लगा है।